Pigeon, Peace

प्रेम ही एकमात्र बचा हुआ सफ़ेद ध्वज होगा

सारी लाशें उठकर चल पड़ेंगी
क़ब्र को चीर कर
सरहदों पर दफनाए गए सैनिक रो पड़ेंगें
दोनों ओर की ज़मीं से फूटेगा
खून का एक दरिया
पेड़ो की पत्तियां हो जाएंगी सुर्ख़
सारे सफ़ेद कबूतर रंगों को अपने साथ लिए
इस दुनिया के परे उड़ जाएंगे
गर युद्ध होगा
युद्ध के बादल
गिद्धों को अपने साथ लेकर आएंगे
और वे ताकते रहेंगे जिंदा और मुर्दा लाशें

लोग बेतरतीब यहाँ वहाँ
भागेंगे बैलों की तरह
चिंता यह है कि इन सबके बीच
बच्चे कहां जाएंगे?
क्या करेंगे?

काश! प्रेम, इतना बचा रहे तब तक
कि युद्ध न होने के लिए युद्ध करता रहे
और खड़ा रहे अपनी छाती तानकर
और डरे नहीं

क्योंकि तब प्रेम ही एकमात्र बचा हुआ सफ़ेद ध्वज होगा!
जिसे हमें ही थामना होगा!