‘आख़री सच’ – निदा फाज़ली

वही है ज़िन्दा
गरजते बादल
सुलगते सूरज
छलकती नदियों के साथ है जो
ख़ुद अपने पैरों की धूप है जो
ख़ुद अपनी पलकों की रात है जो
बुज़ुर्ग सच्चाइयों की राहों में
तज्रबों का अज़ाब है जो
सुकूं नहीं इज़तिराब है जो

वही है ज़िन्दा
जो चल रहा है
वही है ज़िन्दा
जो गिर रहा है, सँभल रहा है
वही है ज़िन्दा
जो लम्हा-लम्हा बदल रहा है

दुआ करो, आसमाँ से उस पर कोई सहीफ़ा
उतर न आये
खली फ़ज़ाओं में
आख़री सच का ज़हर फिर से बिखर न जाये
जो आप अपनी तलाश में है
वोह देवता बनके मर न जाये।


(इज़तिराब- व्याकुलता; सहीफ़ा- पवित्र ग्रन्थ)

■■■


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘प्रेम कविता’ – वीरेन डंगवाल

‘प्रेम कविता’ – वीरेन डंगवाल प्यारी, बड़े मीठे लगते हैं मुझे तेरे बोल! अटपटे और ऊल-जुलूल बेसर-पैर कहाँ से कहाँ तेरे बोल! कभी पहुँच जाती है अपने बचपन में जामुन की रपटन-भरी डालों पर कूदती Read more…

कविताएँ | Poetry

कुशाग्र अद्वैत की कविताएँ

कुशाग्र अद्वैत की कविताएँ कुशाग्र अद्वैत बीस वर्ष के हैं और बनारस में रहते हैं। उनके परिचय में उन्होंने केवल इतना कहा कि कविताएँ लिखते हैं। और उनकी कविताएँ पढ़ने से पहले पाठकों के लिए यह Read more…

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘मेरी हस्ती मेरा नील कमल’ – परवीन ताहिर

‘मेरी हस्ती मेरा नील कमल’ – परवीन ताहिर मेरे ख़्वाब जज़ीरे के अंदर इक झील थी निथरे पानी की इस झील किनारे पर सुंदर इक नील कमल जो खिलता था इस नील कमल के पहलू Read more…

error:
%d bloggers like this: