आस्तीन के सांप

वह जैसे हैं वैसे दीखते हैं
इस लिहाज से मान लिया जाए कि सच्चे हैं
उन्हें इस बात पर गर्व है कि वे सांप हैं
जो आस्तीनों में नहीं पलते
चोरी-छिपे नहीं बल्कि
डसते हैं बता कर
कभी सिर्फ डराने के लिए
फुंफकारते हैं फन काढ़े

हम सदियों से ऐसे साँपों के रहे बीच
जो पलते रहे आस्तीनों में
साथ रहे उठते-बैठते-सोते
हमने मान लिया था कि ये
क्या डसेंगे जो इतने करीबी हैं
पूर्वजों से सीने में दफ़न
ज़हर मारने का मन्त्र हम भूलते गये

बहुत पीड़ादायी है
सर्प-विष की जलन-तड़पन
खुद पर हो या अपनों पर
सर्प-दंश का असर सोने नहीं देता
या कि सुला देता है पूरे समुदाय को
एक झाग-भरी, नीली-ज़हरीली नींद!

तुम बार-बार आगाह करते रहते हो
तुम्हारा शुक्रिया लेकिन होशियार रहो
ये सांप बेकरार हैं तुम्हारा शिकार करने को…