‘अब माँ शांत है!’ – शिवा

मुझे लोगों पर बहुत प्यार आया
ज़रा संकोच न हुआ
मैंने प्यार बरसा दिया
अब मन शांत है

मुझे लोगों पर बहुत गुस्सा आया
ज़रा संकोच हुआ
मैंने माँ पर उतार दिया
अब मन शांत है

मुझे माँ पर बहुत गुस्सा आया
ज़रा संकोच न हुआ
मैंने माँ पर उतार दिया
अब मन शांत है

मुझे माँ पर बहुत प्यार आया
बहुत संकोच हुआ
मैंने कुछ न किया
अब माँ शांत है।

■■■

चित्र श्रेय: Dattatraya Thombare