‘हिंदीनामा’ के बारे में

‘हिंदीनामा’ के बारे में

फेसबुक पेज ‘हिंदीनामा’ एक और प्रयास है हिन्दी के लेखकों/कवियों को एक दूसरे के और इस संसार के सामने लाने का! जल्दी ही यह पेज एक काव्य संकलन भी प्रकाशित करने वाला है, जिसमें आप अपनी रचनाएं भेज सकते हैं.. परिचय और बाकी आधारभूत जानकारी दे रहे हैं ‘हिंदीनामा’ के संस्थापक अंकुश कुमार इस पोस्ट में!

‘हिंदीनामा’ एक छोटी मगर खूबसूरत पहल है तमाम हिंदी बोलने, लिखने, पसंद करने और उसे साहित्यिक भाषा के रूप में गहराई से स्थापित होते देखने वाले लोगों को एक-दूसरे से जोड़ने और रू-ब-रू कराने की। अनेक हिंदी पढ़ने और लिखने वाले लोग इस पेज से जुड़े हैं । वे, जो अच्छा लिख रहे हैं और चाहते हैं कि उन्हें पढ़ा जाए उन्हें ‘हिंदीनामा’ एक बड़े वर्ग के सामने उनकी रचनाओं के माध्यम से ला रहा है और वे, जो अच्छा पढ़ना चाहते हैं उन्हें भी यह मौका मिल रहा है कि वे कुछ अच्छे और नए लोगों को पढ़ें। इस पेज ने नवोदित लेखकों को एक प्रोत्साहन दिया है कि वे और बेहतर लिखें।

यह पेज समय-समय पर प्रतिष्ठित लेखकों और उनकी रचनाओं से युवा वर्ग को परिचित कराता रहा है, चाहे वह उनकी जन्मतिथि/ पुण्यतिथि के बहाने हो या अपने यूट्यूब चैनल के बहाने। ‘हिंदीनामा’ ने पूरा ख़्याल रखा है कि आज के युवाओं की पहुँच कहाँ तक है और हिंदी को कैसे अनेक माध्यमों से पढ़वाया जा सकता है।

अभी एक नई पहल के तहत यह पेज एक कार्यक्रम शुरू कर चुका है जिसमें वे लोग शामिल हैं जो लेखन में अभिरुचि रखते हैं और लिखने की बारीकियों को सीखना चाहते हैं। सबसे नायाब बात ये है कि बहुत से ख़ास लोग स्वेच्छा से ‘हिंदीनामा’ से जुड़ रहे हैं और अपने लेखन के अनुभव नए लेखकों से साझा कर रहे हैं। पेज की स्थापना जिस उद्देश्य से की गई थी उसकी तरफ़ बढ़ते हुए पेज से जुड़े सभी लोगों के कदम निश्चित ही हिंदी की परिस्थिति आज के युग में कुछ और सुदृढ़ करने में अपनी छोटी सी भूमिका बख़ूबी अदा कर रहे हैं, जिसे सबके एकजुट प्रयास से और सफल बनाया जा सकता है।

जल्दी ही हम खुद को पुस्तक के रूप में भी आपके समक्ष पेश करने वाले हैं, अगर आप भी चाहते हैं कि आपकी रचना इस संकलन का हिस्सा बने तो आप अपनी रचना    hindinama1@gmail.com पर भेज सकते हैं। ‘हिंदीनामा’ पेज से यहाँ जुड़ा जा सकता है!

– अंकुश कुमार
संस्थापक, हिंदीनामा

Random Posts:

Recent Posts

नन्ही पुजारन

नन्ही पुजारन

'नन्ही पुजारन' - मजाज़ लखनवी इक नन्ही मुन्नी सी पुजारन पतली बाँहें पतली गर्दन भोर भए मंदिर आई है आई…

Read more
घाटे का सौदा

घाटे का सौदा

'घाटे का सौदा' - सआदत हसन मंटो दो दोस्तों ने मिलकर दस-बीस लड़कियों में से एक लड़की चुनी और बयालीस…

Read more
पेट की खातिर

पेट की खातिर

'पेट की खातिर' - विजय 'गुंजन' उन दोनों के चेहरों पर उदासी थी। आपस में दोनों बहुत ही धीमी आवाज…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

This Post Has One Comment

Leave a Reply

Close Menu
error: