भाषाओं को
भावनाओं को
आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए
खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

‘पोषम पा’ एक हिन्दी ब्लॉग है जिस पर हिन्दी और हिन्दुस्तानी साहित्य के विभिन्न अंश पाठकों से साझा किए जाते हैं जिससे एक पाठक साहित्य के विस्तार और प्रभाव से अवगत हो सके। इसे करने में पूरी कोशिश होगी कि बाकी भाषाओं के साहित्य को भी यथासंभव टटोला जा सके।

यह ब्लॉग, दो ऐसे लोगों, जो कविताओं और साहित्य में खुद को ढूँढने में प्रयासरत हैं, उनकी एक दिन की सनक का सामान्य सा परिणाम है। लेकिन प्रयास रहेगा कि यह सनक हमारे पाठकों के लिए समय बर्बादी का कारण न बने। इसलिए कोशिश रहेगी कि इस ब्लॉग पर प्रकाशित साहित्य और कला से जुड़ी सभी पोस्ट्स, समीक्षाओं, कविताओं, गद्य और अनुवाद इत्यादि में ऐसी बातें पेश की जाएँ जिनसे न केवल हमारे पारंपरिक और विस्तृत साहित्य के कुछ अंश को समझा जा सके, साथ ही समकालीन, हमारे आस-पास ही कार्य करते हमारे साथियों के प्रयासों की भी बातें की जा सकें।

पाठकों को, किसी भी क्षण यदि ऐसी कोई बचकानी हरकत दिखायी दे, जो सामाजिक और नैतिक स्तर पर ग़लत न भी हो, लेकिन सही के खाने में भी फिट न होती हो, तो सोशियल मीडिया के किसी भी माध्यम द्वारा हम तक पहुँचाने में संकोच न करें.. अभी सीख ही रहे हैं। आपका साथ ज़रूरी है।

error: