अंकुश कुमार की कविताएँ

अंकुश कुमार की कविताएँ

अंकुश कुमार दिल्ली में रहते हैं, इंजीनियरिंग की हुई है और फिलहाल हिन्दी से लगाव के कारण हिन्दी ही से एम ए कर रहे हैं, साथ ही एक वेब पोर्टल ‘हिन्दीनामा’ नवोदित लेखकों को आगे लाने के लिये संचालित करते हैं। आज पोषम पा पर पढ़िए उनकी दो कविताएँ! 

अंकुश से kumarankush664@gmail.com पर संपर्क किया जा सकता है।

वक्त

वक्त रुक कर चल रहा है
मेरे बीच से गुज़रते हुए,
मैं देखता हूँ
कि कई सदियाँ गुज़र गयी हैं मुझसे होकर
मेरे समूचे अस्तित्व में
कोयले की कालिख लगी है
और वो षडयंत्र जो रचे गये महाभारत काल में
वो अब भी मेरा पीछा कर रहे हैं।

मेरे शरीर पर जम गये हैं चकत्ते वक्त के
आप देखेंगे तो पायेंगे
उनमें से आती है गंध
आदिमानव द्वारा जलायी गयी आग पर
भूने हुए मांस की।

जैसे-जैसे ये वक्त आगे बढ़ता जायेगा
मुझसे फूटने लगेंगी कोंपले आधुनिकता की
मैं सशरीर एक पेड़ बन जाऊँगा
एक बीज से फूटकर
और एक दिन जब मैं अपनी वृद्धावस्था में
आ जाऊँगा तो मुझे उखाड़ दिया जायेगा जड़ समेत
और फिर कर दिया जायेगा राख मुझे जलाकर
और जो कोयला उत्पन्न होगा
उसकी कालिख मेरे मुँह पर पुती है,
मुझे डाल दिया जायेगा किसी भापगाड़ी के इंजन में
और आप ध्यान से सुनेंगे तो पायेंगे
कि
भाप गाड़ी के हॉर्न से मेरी आवाज आती है
दबी-दबी सी।

गिरगिट

कई बार मुझे ये मालूम होते हुए भी
कि मुझे लूटा जा रहा है
मैं लुट बैठता हूँ।
और कई बार मैं देखता हूँ अन्याय
अगर किसी जगह
तो चल देता हूँ किसी अलग रास्ते,
या फिर अगर बहुत जरूरी हो वहीं से जाना
तो मैं अपनी आँख और कान बंद करने की चेष्टा कर
वहाँ से निकल भागने की प्रक्रिया में लिप्त पाया जाता हूँ।

अगर निकल पड़ता हूँ, कभी किसी बेवकूफ की संगत में
जिसको सदियों पहले कहा जाता था ईमानदार व संवेदनशील
मैं उसको भी करता हूँ कोशिश
ख़ुद के जैसा बनाने की,
हालांकि पहले मैं भी हुआ करता था ऐसा ही
लेकिन मैंने ढाल लिया है ख़ुद को
इस दौर के हिसाब से
अब मैं भी गिरगिट की तरह
रंग बदलने में माहिर हूँ।

■■■

Random Posts:

Recent Posts

नन्ही पुजारन

नन्ही पुजारन

'नन्ही पुजारन' - मजाज़ लखनवी इक नन्ही मुन्नी सी पुजारन पतली बाँहें पतली गर्दन भोर भए मंदिर आई है आई…

Read more
घाटे का सौदा

घाटे का सौदा

'घाटे का सौदा' - सआदत हसन मंटो दो दोस्तों ने मिलकर दस-बीस लड़कियों में से एक लड़की चुनी और बयालीस…

Read more
पेट की खातिर

पेट की खातिर

'पेट की खातिर' - विजय 'गुंजन' उन दोनों के चेहरों पर उदासी थी। आपस में दोनों बहुत ही धीमी आवाज…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: