बहुत कठिन है डगर पनघट की

बहुत कठिन है डगर पनघट की

बहुत कठिन है डगर पनघट की
कैसे मैं भर लाऊं मधवा से मटकी
पनिया भरन को मैं जो गई थी
दौड़ झपट मोरी मटकी पटकी
खुसरो निजाम के बल बल जइये
लाज रखो मोरे घूंघट पट की..