ब्लॉग | Blog

बाउजी की ‘आँखों देखी’ – एकदम। टोटल।

“बस यही सपना मुझे बार बार आता है कि मैं उड़ रहा हूँ आकाश में पंछी की तरह गगन को चीरता मैं चला जा रहा हूँ, चला जा रहा हूँ ये हवा जो मेरे चेहरे Read more…

By Shiva, ago
ब्लॉग | Blog

ग़ज़ल – एक परिचय

ग़ज़ल – एक परिचय ग़ज़ल ने पिछले तीन, साढ़े तीन सौ वर्षों में एक लम्बा सफ़र तय किया है। पहले ये क़सीदों का हिस्सा थी, जो बादशाहों की तारीफ़ करके अपने लिए कुछ वज़ीफ़ा मुक़र्रर Read more…

By Tasneef Haidar, ago
ब्लॉग | Blog

नई दिल्ली बुक फेयर में मिलिए ‘प्लूटो’ से

नई दिल्ली बुक फेयर जारी है। लोग पूरा-पूरा दिन घूमकर किताबें देख रहे हैं, खरीद रहे हैं और दोस्तों को बता भी रहे हैं। जिनके पास समय की कमी है, वे सुझाव भी माँग रहे Read more…

By Posham Pa, ago
ब्लॉग | Blog

जब भारतेन्दु हरिश्चंद्र ने लिखीं अंग्रेज़ों की प्रशंसा में कविताएँ

भारतेन्दु हरिश्चंद्र हिन्दी आधुनिक काल के प्रथम प्रमुख कवि माने जाते हैं। भारतेन्दु का कार्यकाल लगभग उसी समय का रहा जब 1857 की क्रांति के बाद भारत में ईस्ट इंडिया कम्पनी का राज ख़त्म हुआ Read more…

By Posham Pa, ago
ब्लॉग | Blog

दिल्ली विश्व पुस्तक मेला 2018 में खरीदें ये 15 हिन्दी किताबें

हिन्दी में नया क्या लिखा जा रहा है, यह इंटरनेट के युग में भी ढूंढ पाना इतना आसान नहीं नज़र आता। इतनी पर्याप्त जानकारी किसी एक वेबसाइट या पोर्टल पर नहीं मिलती कि उसमें से Read more…

By Puneet Kusum, ago
ब्लॉग | Blog

हरिवंशराय बच्चन: जन्मदिन पर विशेष

नोट: यह लेख मूल रूप से हिन्दी अखबार अमर उजाला के ऑनलाइन पोर्टल ‘काव्य’ के लिए लिखा गया था। यहाँ पुनः प्रस्तुत है। हरिवंशराय बच्चन हिन्दी साहित्य के सबसे अधिक लोकप्रिय कवियों में से एक Read more…

By Puneet Kusum, ago
ब्लॉग | Blog

हिन्दी हाइकु (Hindi Haiku)

पिछले दिनों रोशनदान ग्रुप द्वारा आयोजित पोएट्री वर्कशॉप में लक्ष्मी शंकर वाजपेयी जी द्वारा हाइकु, माहिया और दोहे जैसे काव्य रूपों को संक्षेप में समझने का मौका मिला। चूंकि यह पोस्ट हाइकु समझने हेतु है Read more…

By Puneet Kusum, ago
ब्लॉग | Blog

हिन्दी मुकरी

नहीं नहीं, हिन्दी अपने किसी वादे से नहीं मुकरी है, यह तो एक हिन्दी विधा (form) है जो मुकरे हुए लोगों का सैंकड़ों साल बाद भी इंतज़ार कर रही है कि कब वो मुड़कर उसकी Read more…

By Puneet Kusum, ago
ब्लॉग | Blog

बच्चन की त्रिवेणी – मधुशाला, मधुबाला, मधुकलश

आलोचना अच्छी है, अगर करनी आती हो। और अगर लेनी आती हो तो और भी। लेकिन अक्सर देखा जाता है कि न तो कोई जिम्मेदारी से आलोचना कर पाता है और न ही बहुत लोग Read more…

By Puneet Kusum, ago
ब्लॉग | Blog

संग-ए-मील

10 सितंबर 2017, रविवार के दिन जब आधी दिल्ली, शाम के मनोरंजन के प्लान बना रही थी, तब दिल्ली का एक कोना सुबह से ही कविताओं और गीतों में खोया हुआ था। मौका था दिल्ली Read more…

By Shiva, ago
ब्लॉग | Blog

हिन्दी दिवस का उपहार – ‘प्रेमचंद – कलम का सिपाही’

किसी हिन्दी पाठक के पढ़ने की शुरुआत कहीं से भी हुई हो, जब तक अन्य उम्दा लेखकों से साक्षात्कार नहीं हो जाता या फिर खुद के फेवरेट्स नहीं बन जाते, किसी भी नए पाठक को Read more…

By Puneet Kusum, ago
error: