पुस्तक अंश | Book Excerpt

क्यों बीरसा मुण्डा ने कहा था कि वह भगवान है?

बीरसा मुण्डा, जिसके पूर्वज जंगल के आदि पुरुष थे और जिन्होंने जंगल में जीवन को बसाया था, आज वही बीरसा और उसका समुदाय जंगल की धरती, पेड़, फूल, फल, कंद और संगीत से बेदखल कर Read more…

By Posham Pa, ago
पुस्तक अंश | Book Excerpt

पुस्तक अंश: ‘कस्तूरबा की रहस्यमयी डायरी’

पुस्तक अंश: ‘कस्तूरबा की रहस्यमयी डायरी’ महात्मा गाँधी हमेशा अपने महान कार्यों, सिद्धांतों और बलिदानों के लिए याद किए जाते हैं, लेकिन एक पारिवारिक इंसान या पिता और पति के रूप में भी उन्हें जानने Read more…

By Posham Pa, ago
पुस्तक अंश | Book Excerpt

दुनिया में कोई दूसरा सहगल नहीं आया..

कुंदन लाल सहगल का जन्म जम्मू के निकट एक छोटे से गाँव में 11 अप्रैल, 1904 को हुआ। उनके पिता श्री अमरचंद सहगल कश्मीर के महाराजा प्रताप सिंह के दरबार में पदाधिकारी थे। माँ श्रीमती Read more…

By Posham Pa, ago
पुस्तक अंश | Book Excerpt

‘वो विल (will) करेगी ही नहीं, जब करेगी वोंट (won’t) करेगी’

पुस्तक अंश: ‘हीरा फेरी’ – सुरेन्द्र मोहन पाठक वसीयत एक ऐसा काम है जिस की अहमियत को आज लोग – पढ़े लिखे भी – तरीके से नहीं समझते। जो समझते हैं, वो उसे अपनी जिन्दगी Read more…

By Posham Pa, ago
पुस्तक अंश | Book Excerpt

मौलवीजी, आपाँ चले! (ज़िन्दगीनामा से)

कृष्णा सोबती का ‘ज़िन्दगीनामा’ अविभाजित पंजाब के लोगों का सामाजिक और सांस्कृतिक इतिहास समेटता एक बेहद पठनीय उपन्यास है। इसके लिए कृष्णा सोबती को 1980 में साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसी Read more…

By Posham Pa, ago

Copyright © 2018 पोषम पा — All rights reserved.




Subscribe to Blog via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.


error: