चीर चुराने वाला चीर बढ़ावे है

चीर चुराने वाला चीर बढ़ावे है
ऐसी लीलाओं से जी घबरावे है

जितनी बार बुहारूँ हूँ अपने घर को
उतनी ही साँसों में धूल समावे है

कैसी बेचैनी है देखो बिरवों में
आज हवा फिर किसकी चुगली खावे है

बादल भी अब पानी बाँटे है ऐसे
इस घर सूखा, उस घर जल बरसावे है

बाँचे है ये भीतर तक आखर-आखर
आख़िर दिल को पढ़ना कौन सिखावे है