राहुल द्रविड़। एक ऐसा खिलाड़ी जिसने खेल को एक जंग समझा और फिर भी जंग में सब जायज़ होने को नकार दिया। एक ऐसा साथी जिसने अपने साथियों को खुद से हमेशा आगे रखा। एक ऐसा प्रतिपक्षी जिसके आगे दुश्मनों के सिर भी झुके नज़र आए। एक ऐसा इंसान जिसे शब्दों की ज़रूरत कम ही पड़ी, उसके लिए.. कुछ शब्द.. एक कविता। – पुनीत कुसुम

कहते हैं
कोई नहीं
क़ैद कर सकता हवा को
न ही तुमने किया
लेकिन छीन ली उससे
तुमने गति
और मारा फिर पटक कर
कच्ची मिट्टी के पिंडों की तरह

शोर था जब चारों तरफ
तुमने माना संतुलन को
सर्वोपरि
और चुप रहे

जड़ बने
और धड़ सी तुम ‘दीवार’ एक
सेंध जिसमें
बस की नहीं
उनके भी
जीते हैं अनगिन जग जिन्होंने

और जग को
तुमने बताया
सफल होने से पहले
असफल होना भी इक
उम्मीद है
पद-चाप है
एक सीख है

तुमने ही जताया
काँधे पर है आज के ही
बोझ सारा भविष्य का

तुमने ही दिखाया
इतिहास भी होते हैं
बिना गलतियों के

इक बात और
बस तुम बताओ
कि इस खेल में
है जो भव्य और वैभव के पुतलों से भरा
इस आक्रामक खेल में
भीड़ में कैसे रहे
पीछे सबसे और सभ्य
तुम इतने दिनों..


Puneet Kusum

नाम पुनीत कुसुम है, पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हूँ (जल्दी ही यह बताना बंद करना चाहूँगा) और स्वभाव से एक सामान्य इंसान जो भीतर के द्वंद और अंतर्विरोधों से पीछा छुड़ाने का माध्यम कविताओं को मान बैठा है। हिन्दी में पोस्ट ग्रॅजुयेशन ज़ारी है और अपनी कविताओं से लोगों तक पहुँचने के प्रयास भी। पढ़ने का शौक है और पढ़ते हुए जो रत्न मिल जाते हैं, उनको दुनिया तक पहुँचाने की ललक, और इसीलिए पोषम पा। इसके अलावा किसी विशिष्ट परिचय पर अधिकार नहीं है, जैसे होता जाएगा, बताते जाएँगे। :)

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

उड़ना, उड़ते रहना, उड़ते जाना..

गुजराती कविता: ‘अपना तो’ – मफत ओझा ये सब के सब जैसे-के-तैसे सोफासेट, पलंग, कुर्सी, खिड़कियाँ, दरवाज़े, पर्दे सीलिंगफैन, घड़ी की सुइयाँ- टक-टक और बन्द अँधेरी दीवारों पर टँगा है ईश्वर नश्वर पिता के फोटो Read more…

कविताएँ | Poetry

तेरे अनन्य प्रतिरूप अपने लिए बनाये हैं मैंने।

उड़िया कविता: ‘प्रतिरूप’ – अपर्णा महान्ति पास नहीं हो इसीलिए न! कल्पना के सारे श्रेष्ठ रंग लगाकर इतने सुन्दर दिख रहे हो आज! विरह की छेनी से ठीक से तराश-तराश कर तमाम अनावश्यक असुन्दरता काट-छाँटकर Read more…

कविताएँ | Poetry

मराठी कविता: ‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले

‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले (रूपान्तर: प्रकाश भातम्ब्रेकर) खोये हुए बालक-सा प्रजातन्त्र जो माँ-बाप का नाम भी नहीं बता सकता न ही अपना पता और सत्ता भी मानो नीची निगाहों से रास्ता नाप रही पतिव्रता Read more…

error:
%d bloggers like this: