‘एक पुरानी कहानी’ – ज़हरा निगाह

किसी शहर में इक कफ़न चोर आया
जो रातों को क़ब्रों में सूराख़ करके
तन ए कुश्तगां से कफ़न खींच लेता
आख़िर ए कार पकड़ा गया
और उसको मुनासिब सज़ा हो गयी

कुछ ही दिन बाद इक दूसरा चोर वारिद हुआ
जो कफ़न भी चुराता
क़ब्र को भी खुला छोड़ देता
दूसरा चोर भी रुक्न ए इंसाफ़ के पास लाया गया
और मेहमान ए ज़िन्दाँ हुआ

फिर यकायक किसी तीसरे चोर का ग़ुल मचा
जो कफ़न भी चुराता
क़ब्र को भी खुला छोड़ देता
और मुर्दा बदन को बिरहना किसी राह पर डाल देता

शहर वाले उसे जब अदालत में लाये
तो क़ाज़ी ने उसकी सज़ा को सुनाते हुए
फ़ैसला यूँ लिखा
‘ख़ुदावन्द! पहले कफ़न चोर को अपनी रहमत में रखना कि वो आदमी ख़ूब था’..

■■■

(यह नज़्म हैरी अटवाल और तसनीफ़ हैदर द्वारा सम्पादित किताब ‘रौशनियाँ’ से है, जो हिन्दुस्तान और पाकिस्तान की बीस समकालीन शायरों की कविताओं/नज़्मों का संकलन है। 7 जुलाई 2018 को इस किताब का विमोचन है, जिसकी डिटेल्स यहाँ देखी जा सकती हैं!)


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘लड़की’ (क़ंदील बलोच के नाम) – सोफ़िया नाज़

नज़्म: ‘लड़की’ – सोफ़िया नाज़ (क़ंदील बलोच के नाम) पतले नंगे तार से लटकी जलती, बुझती, बटती वो लड़की जो तुम्हारी धमकी से नहीं डरती वो लड़की जिसकी मांग टेढ़ी है अंधी तन्क़ीद की कंघी से Read more…

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘क्या करूँ’ – यासमीन हमीद

‘क्या करूँ’ – यासमीन हमीद क्या करूँ मैं आसमां को अपनी मुट्ठी में पकड़ लूँ या समुन्दर पर चलूँ पेड़ के पत्ते गिनूँ या टहनियों में जज़्ब होते ओस के क़तरे चुनूं डूबते सूरज को उंगली Read more…

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘ओ देस से आने वाले बता’ – अख़्तर शीरानी

‘ओ देस से आने वाले बता’ – अख़्तर शीरानी ओ देस से आने वाले बता किस हाल में हैं यारान-ए-वतन आवारा-ए-ग़ुर्बत को भी सुना किस रंग में है कनआन-ए-वतन वो बाग़-ए-वतन फ़िरदौस-ए-वतन वो सर्व-ए-वतन रैहान-ए-वतन Read more…

error:
%d bloggers like this: