‘गर्मियों की शुरुआत’ – मंगलेश डबराल

पास के पेड़ एकदम ठूँठ हैं
वे हमेशा रहते आए हैं बिना पत्तों के
हरे पेड़ काफी दूर दिखाई देते हैं
जिनकी जड़ें हैं, जिनकी परछाईं हैं
उन्हीं में कोई आँधी अटकी हुई है

गर्मियों की शुरुआत में
हम कुछ दूर जाकर रुक जाते हैं
जो हमें कहना है
उसे कहना बंद कर देते हैं
उम्मीद करते हैं किसी परिचित
चेहरे के लौटने की

स्पर्श बदलने लगते हैं
चिपचिपे अमूर्तनों में
कवियों में होड़ शुरू होती है
जल्दी से अपनी महानता पहचानने की
अखबार छापते हैं, गोलियाँ चलती हैं
दीवार पर प्रकट होती है
एक छिपकली धीरे-धीरे सरकती।


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

तेरे अनन्य प्रतिरूप अपने लिए बनाये हैं मैंने।

उड़िया कविता: ‘प्रतिरूप’ – अपर्णा महान्ति पास नहीं हो इसीलिए न! कल्पना के सारे श्रेष्ठ रंग लगाकर इतने सुन्दर दिख रहे हो आज! विरह की छेनी से ठीक से तराश-तराश कर तमाम अनावश्यक असुन्दरता काट-छाँटकर Read more…

कविताएँ | Poetry

मराठी कविता: ‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले

‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले (रूपान्तर: प्रकाश भातम्ब्रेकर) खोये हुए बालक-सा प्रजातन्त्र जो माँ-बाप का नाम भी नहीं बता सकता न ही अपना पता और सत्ता भी मानो नीची निगाहों से रास्ता नाप रही पतिव्रता Read more…

कविताएँ | Poetry

अंकल आई एम तिलोत्तमा!

कविता: ‘पहचान और परवरिश’ – प्रज्ञा मिश्रा कौन है ये? मेरी बिटिया है, इनकी भतीजी है, मट्टू की बहन है, वी पी साहब की वाइफ हैं, शर्मा जी की बहू है। अपने बारे में भी Read more…

error:
%d bloggers like this: