‘घाटे का सौदा’ – सआदत हसन मंटो

दो दोस्तों ने मिलकर दस-बीस लड़कियों में से एक लड़की चुनी और बयालीस रुपए देकर उसे खरीद लिया।

रात गुजारकर एक दोस्त ने उस लड़की से पूछा- “तुम्हारा क्या नाम है?”

लड़की ने अपना नाम बताया तो वह भिन्ना गया- “हमसे तो कहा गया था कि तुम दूसरे मजहब की हो!”

लड़की ने जवाब दिया- “उसने झूठ बोला था।”

यह सुनकर वह दौड़ा-दौड़ा अपने दोस्त के पास गया और कहने लगा- “उस हरामजादे ने हमारे साथ धोखा किया है, हमारे ही मजहब की लड़की थमा दी! चलो, वापस कर आएँ!”

■■■