घर पूछता है

जाने डगर में जाकर
अनजाने राह में भटककर
थोड़ा रुककर
सुस्ताकर
क्या बेझिझक
याद नहीं करते हो अपना घर?