विजय गुँजन के हाइकु

विजय गुँजन के हाइकु

डॉ विजय श्रीवास्तव लवली प्रोफेशनल यूनिवसिर्टी में अर्थशास्त्र विभाग में सहायक आचार्य है। आप गांधीवादी विचारों में शोध की गहन रूचि रखते हैं और कई मंचों पर गांधीवादी विचारों पर अपने मत रख चुके हैं। आपकी रूचि असमानता और विभेदीकरण पर कार्य करने की है। हिन्दी लेखन में विशेष रूचि रखते हैं और गीत, हाइकु और लघु कथा इत्यादि विधाओं में लिखते रहते हैं। विजय का ‘तारों की परछाइयां’ काव्य संग्रह शीघ्र प्रकाशित होने वाला है |

विजय फगवाड़ा पंजाब में रहते हैं और उनसे vijaygunjan1986@gmail.com पर सम्पर्क किया जा सकता है। आज पढ़िए विजय के कुुछ हाइकु!

नदी के पाँव
फिसलते जब भी
डूबते गांव

सो रही धूप
किसी निर्जन वन
बदल रूप

बंटे बर्तन
भाइयों के बीच में
रोया आंगन

शहर जला
माचिसों पर दोष
इन्सान चला

किताबें शांत
बैठी हैं अकेले में
शब्द अशांत

पेड़ थे मौन
बसाने थे मकान
हुए कुर्बान

रोये पहाड़
नदियों की दुर्दशा
ये खिलवाड़

आंधियां आईं
पेड़ मरे हजारों
मौत अकाल

हाइकु विधा और उसकी संरचना समझने के लिए यहाँ क्लिक करें!

Random Posts:

Recent Posts

रुत

रुत

दिल का सामान उठाओ जान को नीलाम करो और चलो दर्द का चाँद सर-ए-शाम निकल आएगा क्या मुदावा है चलो…

Read more
आदत

आदत

कविता संग्रह 'लौटा है विजेता' से मरदों ने घर को लौटने का पर्याय बना लिया और लौटने को मर जाने…

Read more
नतीजा

नतीजा

पुरबी दी के सामने उद्विग्‍न भाव से रूमा ने 'होम' की बच्चियों की छमाही परीक्षा के कार्ड सरका दिए। नतीजे…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: