हताशा का अरण्य

हताशा का अरण्य बहुत ही घना होता है,
वहां का हर पेड़ एक-सी शक्ल का लगता है,
कोई अगर अलग दिखता है तो वह हम खुद।
उस अरण्य के बीचोबीच से केवल एक ही सड़क गुज़रती है,
जिसके चौराहों पर पगडंडियों के पैर काट कर लटका दिए जाते हैं।

मैं हताश हो जाती हूँ, हाँ! पर नाउम्मीद नहीं,
दोनों में अंतर समझती हूँ,
इसलिए एक उम्मीद लिए चल देती हूँ नंगे पैर,
किसी और अरण्य की ओर।

फिर जब बहुत दिनों तक चलते-चलते पैरों के छालों से फफूँद पिचक आती है,
तब जो पहला खंडहर दिखता है उसकी छांव की ओट में किसी नवजात सी लेट जाती हूँ।

जाग खुलती है तो आभास होता है मैं कितना मीठा सोई,
धूप, पेड़ों की छाननी से छनकर मेरे बदन पर जब गर्म चाय सी गिरती है तब,
हर जगह जंगली मशरूमों के मुहाँसे फूट आते हैं।

मैंने एक अंतिम बार अपने पैरों की ओर नज़र दौड़ाई,
फफूँद की धरती पर नन्हे अंकुर उग आए थे,
उम्मीद के अरण्य का उदय हो चला था,
एक गहरी लंबी सांस लेकर मैंने आंखें मीच ली,

शायद फिर क्या पता एक दिन मैं हताशा का अरण्य ढूँढने निकल जाऊँ।