बांग्ला कविता: ‘हिमशिला’ – विप्लव माझी

मैं चाहता हूँ
इस धरती को तुम
थोड़ा-थोड़ा कर ही सही
समझना तो शुरू करो।

तुम खुद अपनी आँखों से देखो
किस तरह खण्डहर में तब्दील हो गये हैं
इतिहास के सामने
और पथराने लगी है हवा
किसी बुनियाद के बिना
भटकाती – बिर्राती हैवानी चीख में।

तुम खुद देखो
इन्सानों को कितनी तेजी से
फालतू चीज़ों और कचरे के ढेर में फेंककर
बढ़ गये हैं हमलावर
ख़ूंख़ार जानवरों से कहीं ज़्यादा ख़तरनाक
हथियार हैं उनके पास
घूमता चला जा रहा है वक़्त का आईना
इस रोशनी और अँधेरे में अब
‘कोई तो आकर बचा ले’ जैसी पुकार
एक बार नहीं, हज़ार बार
जमकर हो गयी है- हिमशिला।

कोई नहीं जानता
क्या लिखा है
भविष्य की कोख में पल रही धरती के लिलार पर,
सारी दीवारें एक-एक कर ढह रही हैं
आसमान के आखिरी छोर तक फैली
अपनी आज़ादी के साथ क्या करे-
यह तय नहीं कर पा रहा है आदमी
धूल और कोहरे के बादल
लीलते जा रहे हैं आदर्श और विश्वास।

वक़्त का कन्धा छुआ नहीं
कि तुम समझ जाओगे
इस जानी-पहचानी धरती का एक-एक पल
पथराये सूरज की तरफ बढ़ता
तिल-तिल कर
होता जा रहा है विलीन…

■■■

चित्र श्रेय: raisingmiro.com


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: ‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो

‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल दुराय नैनाँ बनाए बतियाँ कि ताब-ए-हिज्राँ नदारम ऐ जाँ न लेहू काहे लगाए छतियाँ शाबान-ए-हिज्राँ दराज़ चूँ ज़ुल्फ़ ओ रोज़-ए-वसलत चूँ उम्र-ए-कोताह सखी पिया को जो Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण

‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण वे सूर्योदय की प्रतीक्षा में पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे दूसरे दिन जब सूर्योदय हुआ तब भी वे पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे जबकि Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा

‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा मेरे दिल की सतह पर टार जम गया है साँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस छोड़ती हूँ Read more…

error:
%d bloggers like this: