आज या कल?
सत्य वह है जो आज है?
या वह जो कल था?
सत्य वह भी हो सकता है
जो कल होगा
बस उसका आभास ही न हो पाया हो
बीते कल के बिखरे परखच्चे जोड़
एक ‘आज’ खड़ा करने में..

‘कल’ गिने नहीं जा सकते
पहला ‘कल’ क्या वह होगा जब आँखों ने
गर्भ से बाहर की दुनिया में झाँका होगा?
लेकिन फिर उससे पहले के लगभग दो सौ सत्तर कलों का क्या
जो माँ के होठों पर मुस्कान और देह पर साँप की तरह लोटे होंगे
कभी दर्द में, कभी अधीरता में
कभी प्रतीक्षा में
या अगर मान लें कि पहला कल वह दिन था
जब दो देह मिलकर अलग न हो पायीं
एक का दूसरे में कुछ छूट गया
तो फिर उन कलों का क्या जब इस मिलन की नींव रखी जा रही थी?
उन दिनों का सूरज एक सेकण्ड भी जल्दी या देरी से उगा होता
तो शायद सब ‘कल’ ताश की इमारत की तरह ढह जाते
और ‘आज’ या तो होता ही नहीं
या एक जिद्दी पत्ते सा खड़ा होता
अर्थहीन..

‘कल’ गिने, मापे नहीं जा सकते
‘आज’ कलों से बने एक अनंत से आया है
और एक अनंत तक ही जायेगा
पूरा सत्य न वह है जो आज है
न वह जो कल था
और न वह जो कल होगा
सत्य आज और कल के बीच की उस रिक्तता में कहीं है
जो किसी को नहीं दिखती
जिसमें मैं और तुम मिलते हैं
सत्य वो पल हैं जिनमें
तुम में भूल जाती हूँ
अपना कल, आज और कल
सत्य वो क्षण हैं जिनमें
समय ही नहीं होता
होते हो तो बस तुम
मुस्कुराते
विश्वास दिलाते
कि हम भी आज की तरह एक अनंत से आए हैं
और एक
अनंत तक जायेंगे..

 

चित्र श्रेय: मेरे दो दोस्त


Shiva

अपने बारे में बताने को कुछ आकर्षक सा हो, इसका तो अभी इंतज़ार ही है। एक परंपरागत भारतीय लड़की की छवि से ज़्यादा दूर नहीं हूँ। समाज की अनेक बातों से बेचैन, खुद को लेकर बहुत असुरक्षित, दिन में सपने देखती और रात में घर की छत को तकती रहती एक आम लड़की। हर तरह की किताबों से बहुत प्यार करती हूँ, तरह तरह से उन्हें अलमारी में सजाया करती हूँ, और एक 'विश' माँगने को बोला जाए तो यही चाहूँगी की हज़ारों किताबों का निचोड़ दिमाग़ में समा जाए। अपनी असुरक्षाओं से लड़ने के लिए कुछ कुछ लिख लेती हूँ, और लोगों की सच्ची-झूठी तारीफों में सुकून पा लेती हूँ। लिखने- पढ़ने के अलावा संगीत एक और ऐसी चीज़ है जो मैं कस के अपने पास रखे रहना चाहती हूँ।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

उड़ना, उड़ते रहना, उड़ते जाना..

गुजराती कविता: ‘अपना तो’ – मफत ओझा ये सब के सब जैसे-के-तैसे सोफासेट, पलंग, कुर्सी, खिड़कियाँ, दरवाज़े, पर्दे सीलिंगफैन, घड़ी की सुइयाँ- टक-टक और बन्द अँधेरी दीवारों पर टँगा है ईश्वर नश्वर पिता के फोटो Read more…

कविताएँ | Poetry

तेरे अनन्य प्रतिरूप अपने लिए बनाये हैं मैंने।

उड़िया कविता: ‘प्रतिरूप’ – अपर्णा महान्ति पास नहीं हो इसीलिए न! कल्पना के सारे श्रेष्ठ रंग लगाकर इतने सुन्दर दिख रहे हो आज! विरह की छेनी से ठीक से तराश-तराश कर तमाम अनावश्यक असुन्दरता काट-छाँटकर Read more…

कविताएँ | Poetry

मराठी कविता: ‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले

‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले (रूपान्तर: प्रकाश भातम्ब्रेकर) खोये हुए बालक-सा प्रजातन्त्र जो माँ-बाप का नाम भी नहीं बता सकता न ही अपना पता और सत्ता भी मानो नीची निगाहों से रास्ता नाप रही पतिव्रता Read more…

error:
%d bloggers like this: