इस बार बसन्त के आते ही
मैं पेड़ बनूँगा एक बूढ़ा
और पुरवा के कान में फिर
जाकर धीरे से बोलूँगा-

“शरद ने देखो इस बारी
अच्छे से अपना काम किया

जर्जर सूखे जो पत्ते थे
कितने सालों के बोझ लिए
जो व्यर्थ टंगे थे शाखों पर
और मुझे झुकाकर रखते थे

कोई पीला सा, कोई सूख चुका
कोई मुरझाए एक मन जैसा
कोई बस थोड़ा उलझा-उलझा
प्रतीक्षा में एक झोंके की

एक ही झटके में सबको
देखो मिट्टी में मिला दिया..

अब मेरी सारी शाखाएँ
जो आतुर हैं फिर जन्मने को
उन सब ने फिर भर जाने को
हरियाली से सन जाने को
राहें तेरी ही ताकी हैं..

अब मेरी सारी शाखाएँ
इक आस लगाकर बैठेंगी
कुछ स्वप्न पालकर बैठेंगी
वे बाँह खोलकर बैठेंगी
इस शीत ऋतु के जाते ही..”

इस बार बसन्त के आते ही..

 

चित्र श्रेय: Alessio Lin


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविताएँ | Poetry

उड़ना, उड़ते रहना, उड़ते जाना..

गुजराती कविता: ‘अपना तो’ – मफत ओझा ये सब के सब जैसे-के-तैसे सोफासेट, पलंग, कुर्सी, खिड़कियाँ, दरवाज़े, पर्दे सीलिंगफैन, घड़ी की सुइयाँ- टक-टक और बन्द अँधेरी दीवारों पर टँगा है ईश्वर नश्वर पिता के फोटो Read more…

कविताएँ | Poetry

तेरे अनन्य प्रतिरूप अपने लिए बनाये हैं मैंने।

उड़िया कविता: ‘प्रतिरूप’ – अपर्णा महान्ति पास नहीं हो इसीलिए न! कल्पना के सारे श्रेष्ठ रंग लगाकर इतने सुन्दर दिख रहे हो आज! विरह की छेनी से ठीक से तराश-तराश कर तमाम अनावश्यक असुन्दरता काट-छाँटकर Read more…

कविताएँ | Poetry

मराठी कविता: ‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले

‘श्वेतपत्र’ – शरण कुमार लिंबाले (रूपान्तर: प्रकाश भातम्ब्रेकर) खोये हुए बालक-सा प्रजातन्त्र जो माँ-बाप का नाम भी नहीं बता सकता न ही अपना पता और सत्ता भी मानो नीची निगाहों से रास्ता नाप रही पतिव्रता Read more…

error:
%d bloggers like this: