इस बार बसन्त के आते ही
मैं पेड़ बनूँगा एक बूढ़ा
और पुरवा के कान में फिर
जाकर धीरे से बोलूँगा-

“शरद ने देखो इस बारी
अच्छे से अपना काम किया

जर्जर सूखे जो पत्ते थे
कितने सालों के बोझ लिए
जो व्यर्थ टंगे थे शाखों पर
और मुझे झुकाकर रखते थे

कोई पीला सा, कोई सूख चुका
कोई मुरझाए एक मन जैसा
कोई बस थोड़ा उलझा-उलझा
प्रतीक्षा में एक झोंके की

एक ही झटके में सबको
देखो मिट्टी में मिला दिया..

अब मेरी सारी शाखाएँ
जो आतुर हैं फिर जन्मने को
उन सब ने फिर भर जाने को
हरियाली से सन जाने को
राहें तेरी ही ताकी हैं..

अब मेरी सारी शाखाएँ
इक आस लगाकर बैठेंगी
कुछ स्वप्न पालकर बैठेंगी
वे बाँह खोलकर बैठेंगी
इस शीत ऋतु के जाते ही..”

इस बार बसन्त के आते ही..

 

चित्र श्रेय: Alessio Lin


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नव-लेखन | New Writing

कविता: ‘झेलम’ – आशीष मनचंदा

प्रेम, भरोसा, समर्पण.. ये सारे शब्द एक ऐसी गुत्थी में उलझे रहते हैं कि किसी एक की डोर खिंचे तो तनाव दूसरों में भी पैदा होता है। बिना प्रेम भरोसा नहीं, बिना भरोसे समर्पण नहीं। Read more…

नव-लेखन | New Writing

बनारस का कोई मजाकिया ब्राह्मण लगता हूँ – आदर्श भूषण

आज कुछ सत्य कहता हूँ, ईर्ष्या होती है थोड़ी बहुत, थोड़ी नहीं, बहुत। लोग मित्रों के साथ, झुंडों में या युगल, चित्रों से, मुखपत्र सजा रहें हैं.. ऐसा मेरा कोई मित्र नहीं। कुछ महिला मित्रों Read more…

नव-लेखन | New Writing

‘आजा फटाफट, चिल मारेंगे’ – प्रद्युम्न आर. चौरे

“रात सोने के लिए है।” यह एक जुमला है और यही सच भी क्योंकि मुद्दतों से फ़र्द इस जुमले की ताईद करते आए हैं। यह जुमला या यूँ कहूं कि नियम इंसान ने ही गढ़ा होगा Read more…

error:
%d bloggers like this: