जाते-जाते ही मिलेंगे लोग उधर के

कविता संग्रह ‘सब कुछ होना बचा रहेगा’ से

जाते-जाते ही मिलेंगे लोग उधर के
जाते-जाते जाया जा सकेगा उस पार
जाकर ही वहॉं पहुँचा जा सकेगा
जो बहुत दूर सम्भव है
पहुँच कर सम्भव होगा
जाते-जाते छूटता रहेगा पीछे
जाते-जाते बचा रहेगा आगे
जाते-जाते कुछ भी नहीं बचेगा जब
तब सब कुछ पीछे बचा रहेगा
और कुछ भी नहीं में
सब कुछ होना बचा रहेगा!