ज्योति शोभा की कविताएँ

सजग पाठिका एवम सदैव साहित्य सृजन में उन्मुख ज्योति शोभा अंग्रेजी साहित्य में स्नातक हैं। ‘बिखरे किस्से’ संग्रह के अतिरिक्त इनकी कई कविताएं राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय संकलनों में प्रकाशित हो चुकी हैं।  प्रेम, प्रकृति, विरह के भाव की परिचायक इनकी लेखनी से सृजित कुछ कविताएँ आज पोषम पा पर पढ़िए! 🙂

आमंत्रण की कला

दस्तक का आधा रस किवाड़ सोख लेता है
शेष आधा टपक जाता है
पक कर इस ऋतू
ऊपर के ताखे में संकोच रख कर सोती है देह
अलमारियों में पंचांग का शोक

जैसी उसकी भाषा है
आधे में जल पर चंद्र दिखाई देता है
बचे आधे से ही तो जीवन पर्यन्त
छोटी छोटी हांडी भरती है वो
पांच मसालों की होती है पांच इन्द्रियाँ
खदकती एक संग श्वास की अग्नि में
रसोई में खिचड़ी होती है बासी सूंघ सूंघ अपना कलेवर
श्वान को जीमाती है
छपाके से नहलाती है अपना चौका सूर्योदय पूर्व

आमंत्रण की कला में इतना जानती है
कि देहरी पर बैठना है तुलसी पत्ते की चाय लिए
पल्लू की किनोर में दालमोठ बांधे

अस्त होता है मन
फिर अस्त होने की थकन भी होती है अस्त

बड़बड़ाती है, दस्तक का कोई मोह करता है भला –
जो कोई आता भी हो तो क्या पूछेगा
क्या तुम ही वो गृहिणी
जिसने अभ्यागत को लिखी थी कविता
नवरात्र के पहले दिवस?

कहलवाया है उसने

कहलवाया है उसने
आ रहा है अंतिम संगीत लेकर

और मैं कितनी कातर
निर्जन से घर में कैसे डोलती हूँ
क्या क्या न जलाया
पीली ढिबरी, फिर चूल्हा
फिर फिर अपना पीला मन

नव रस की भागी
सौ मुद्राओं की अभिलाषी

अभी कालिख उतारी देह दृष्टि पर
आएगा वो
भरेगा अंजन

दमदम के नभ पर मेघ छाए है

किताब के भार से आधे दाम, थैली में खरीद लायी
नैवेद्य और गुड़
कालिदास की शकुंतला का रक्त पीला पड़ गया था
सुगठित ग्रंथावली की मज्जा में
घट पड़ गए जगह जगह
लोग जन दो जून के भात को मरते थे
मैं अभागी बांचती रही थी कैसे ही क्षत हो गयी सुंदरी सती की देह

जिस देस में मद्य का निषेध हो
वहीं जाते हैं अल्प वय वाले पुरुष
और तारापीठ की गलियां थी इतनी ही संकीर्ण
जहाँ कुछ न था सिवाय अघोर प्रेमियों के
सिवाय गहन अन्धकार के
ज्यों तुम्हारा ह्रदय था पूजन के पहर

लौट आती थी मैं सब चढ़ा कर देवी को
ट्रेन में पास बैठा रसिक कवि कह पड़ा –
भान होता है दमदम के नभ पर मेघ छाए है
मैं इतना ही सोचती थी, बुदबुदाते –

ठीक ही किया जो बेच आयी बही
ज्ञान का कैसा अालोक !
बिरखा का स्वच्छ जल मिल जाता है पोखर में
फिर उस पर तुम भैरव, प्रलय करते हो प्रणय के !!

भवसागर

कोई ऐसे भी विवश करता है क्या
सामने कूप है, दोल है
किन्तु शुक लिए बैठा साधक कहता है
ध्यान धरो अर्ध नग्न हिम श्रृंगों का
सोचो उत्तर मुख किये निद्रालीन देवों का
मर जाओ पिपासा से

सामने वो है
भुजाएं हैं उसकी खुली
किन्तु ये जन्म व्यर्थ करो पहले
काशी घाट पर माला फेरते

कोई ऐसे छोड़ आता है मझधार में क्या
उस पार मृत्यु को भी उतना ही समय लगे
जितना इस पार छूटी पुरातन देह धारते

तुम्हारे शुक उड़ जाएँ
फिर मैं तर जाऊंगी भवसागर

कंठ से स्वर आता है किंचित जलते शव जैसा
किन्तु हंसकर कहती हूँ अभी –
तुम कितने जीव पकड़ोगे
किसे-किसे अन्धकार की नौका से पार कराओगे संसार
देखूँगी

तत्पश्चात मिलना मुझसे

तत्पश्चात मिलना मुझसे
त्वरित ग्रास की तरह
मेरे भय को सम्पूर्ण निगल जाने को उद्धत

तटबंधों पर विचरते
धवल, निर्मल बगुलों की तरह
कौंध जिनकी रह जाए निर्लिप्त खेलते वक्ष पर
मेरे मुक्ता हारों में

हथिया लेना उसके बाद
मेरा आद्र कंठ स्वर
मेघों की तरह अधर को आधार देकर

तत्पश्चात मंदार के घनघोर अन्धकार समान मिलना
अपनी आदिम कंदराओं में जिनका सापेक्ष स्वर
जन्म से सुना मैंने

अंतत: संधानरत मृदुल मनीषी से मिलना
अडिग विश्वास लेकर
इस बार सिद्ध कर ही मानोगे मेरी गृहस्थी
मानों प्रतिष्ठित हैं मेरे सब अंग
तुम्हारे अंगों में..

■■■


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: ‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो

‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल दुराय नैनाँ बनाए बतियाँ कि ताब-ए-हिज्राँ नदारम ऐ जाँ न लेहू काहे लगाए छतियाँ शाबान-ए-हिज्राँ दराज़ चूँ ज़ुल्फ़ ओ रोज़-ए-वसलत चूँ उम्र-ए-कोताह सखी पिया को जो Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण

‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण वे सूर्योदय की प्रतीक्षा में पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे दूसरे दिन जब सूर्योदय हुआ तब भी वे पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे जबकि Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा

‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा मेरे दिल की सतह पर टार जम गया है साँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस छोड़ती हूँ Read more…

error:
%d bloggers like this: