न सीने पर हैं तमगे
न हाथों में कलम है
न कंठ में है वीणा
न थिरकते कदम हैं
इस शहर को छोड़कर
जिसमें घर है मेरा
उस ग़ैर मुल्क जाके
लोगों के मुँह देखता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

सरहद कुछ डराती
हैं पाँव काँप जाते
बेटी के फिर टूटे
खिलौने याद आते
बाप हूँ बना जब
कर्त्तव्य है निभाना
यूँ कर ही रास्तों के
बारूद सकेरता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

कुछ तो रहनुमा हैं
और लोग कुछ बड़े हैं
मुझ जैसे तो हाथों में
हाथ बाँधे खड़े हैं
वजूद ही क्या मेरा
संभ्रांतों के सामने
ज़रूरतों के आगे
जो घुटने टेकता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

कुछ संसदों में बैठे
अखबार छापते हैं
कुछ चीखते हैं ज़िद्दी
कुछ ढाल नापते हैं
जंग जो छिड़ेगी
होंगे वही वजह भी
किस वजह से फिर मैं
यह आग सेकता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

हाँ हूँ कुछ तो छोटा
अक्ल भी थोड़ी कम है
कला से नावाकिफ़ हूँ
फलों का बस रहम है
ज़िन्दगी की कीमत
तो बात है बड़ी कुछ
किलो-दर्जनों की बातें
उँगली पे फेरता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

 

चित्र श्रेय: शरद महामना


Puneet Kusum

नाम पुनीत कुसुम है, पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हूँ (जल्दी ही यह बताना बंद करना चाहूँगा) और स्वभाव से एक सामान्य इंसान जो भीतर के द्वंद और अंतर्विरोधों से पीछा छुड़ाने का माध्यम कविताओं को मान बैठा है। हिन्दी में पोस्ट ग्रॅजुयेशन ज़ारी है और अपनी कविताओं से लोगों तक पहुँचने के प्रयास भी। पढ़ने का शौक है और पढ़ते हुए जो रत्न मिल जाते हैं, उनको दुनिया तक पहुँचाने की ललक, और इसीलिए पोषम पा। इसके अलावा किसी विशिष्ट परिचय पर अधिकार नहीं है, जैसे होता जाएगा, बताते जाएँगे। :)

Leave a Reply

Related Posts

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: ‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो

‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल दुराय नैनाँ बनाए बतियाँ कि ताब-ए-हिज्राँ नदारम ऐ जाँ न लेहू काहे लगाए छतियाँ शाबान-ए-हिज्राँ दराज़ चूँ ज़ुल्फ़ ओ रोज़-ए-वसलत चूँ उम्र-ए-कोताह सखी पिया को जो Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण

‘सूर्योदय की प्रतीक्षा में’ – कुँवर नारायण वे सूर्योदय की प्रतीक्षा में पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे दूसरे दिन जब सूर्योदय हुआ तब भी वे पश्चिम की ओर मुॅंह करके खड़े थे जबकि Read more…

कविताएँ | Poetry

कविता: ‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा

‘ग्लोबल वॉर्मिंग’ – शिवा मेरे दिल की सतह पर टार जम गया है साँस खींचती हूँ तो खिंची चली आती है कई टूटे तारों की राख जाने कितने अरमान निगल गयी हूँ साँस छोड़ती हूँ Read more…

error:
%d bloggers like this: