न सीने पर हैं तमगे
न हाथों में कलम है
न कंठ में है वीणा
न थिरकते कदम हैं
इस शहर को छोड़कर
जिसमें घर है मेरा
उस ग़ैर मुल्क जाके
लोगों के मुँह देखता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

सरहद कुछ डराती
हैं पाँव काँप जाते
बेटी के फिर टूटे
खिलौने याद आते
बाप हूँ बना जब
कर्त्तव्य है निभाना
यूँ कर ही रास्तों के
बारूद सकेरता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

कुछ तो रहनुमा हैं
और लोग कुछ बड़े हैं
मुझ जैसे तो हाथों में
हाथ बाँधे खड़े हैं
वजूद ही क्या मेरा
संभ्रांतों के सामने
ज़रूरतों के आगे
जो घुटने टेकता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

कुछ संसदों में बैठे
अखबार छापते हैं
कुछ चीखते हैं ज़िद्दी
कुछ ढाल नापते हैं
जंग जो छिड़ेगी
होंगे वही वजह भी
किस वजह से फिर मैं
यह आग सेकता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

हाँ हूँ कुछ तो छोटा
अक्ल भी थोड़ी कम है
कला से नावाकिफ़ हूँ
फलों का बस रहम है
ज़िन्दगी की कीमत
तो बात है बड़ी कुछ
किलो-दर्जनों की बातें
उँगली पे फेरता हूँ
भाई लोगे क्या? खजूर बेचता हूँ..

 

चित्र श्रेय: शरद महामना


Puneet Kusum

नाम पुनीत कुसुम है, पेशे से सॉफ्टवेर इंजीनियर हूँ (जल्दी ही यह बताना बंद करना चाहूँगा) और स्वभाव से एक सामान्य इंसान जो भीतर के द्वंद और अंतर्विरोधों से पीछा छुड़ाने का माध्यम कविताओं को मान बैठा है। हिन्दी में पोस्ट ग्रॅजुयेशन ज़ारी है और अपनी कविताओं से लोगों तक पहुँचने के प्रयास भी। पढ़ने का शौक है और पढ़ते हुए जो रत्न मिल जाते हैं, उनको दुनिया तक पहुँचाने की ललक, और इसीलिए पोषम पा। इसके अलावा किसी विशिष्ट परिचय पर अधिकार नहीं है, जैसे होता जाएगा, बताते जाएँगे। :)

Leave a Reply

Related Posts

कविता | Poetry

कविता: मैं समर अवशेष हूँ – पूजा शाह

‘कुरुक्षेत्र’ कविता और ‘अँधा युग’ व् ‘ताम्बे के कीड़े’ जैसे नाटक जिस बात को अलग-अलग शैलियों और शब्दों में दोहराते हैं, वहीं एक दोस्त की यह कविता भी उन लोगों का मुँह ताकती है जो Read more…

कविता | Poetry

कविता: ‘तमाशा’ – पुनीत कुसुम

उन्मादकता की शुरुआत हो जैसे जैसे खुलते और बंद दरवाज़ों में खुद को गले लगाना हो जैसे कोनों में दबा बैठा भय आकर तुम्हारे हौसलों का माथा चूम जाए जैसे वो सत्य जिसे झुठलाने की Read more…

कविता | Poetry

“शदायी केह्न्दे ने” – रमेश पठानिया की कविताएँ

आधुनिक युग का आदमियत पर जो सबसे बड़ा दुष्प्रभाव पड़ा है वो है इंसान से उसकी सहजता छीन लेना। थोपे हुए व्यवसाए हों या आगे बढ़ जाने की दौड़, हम जाने किन-किन माध्यमों का प्रयोग Read more…

%d bloggers like this: