‘खंडर’ – शमीम करहानी

इसी उदास खंडर के उदास टीले पर
जहाँ पड़े हैं नुकीले से सुरमई कंकर
जहाँ की ख़ाक पे शबनम के हार बिखरे हैं
शफ़क़ की नर्म किरन जिस पे झिलमिलाती है
शिकस्ता1 ईंटों पे मकड़ी के जाल हैं जिस जा
यहीं पे दिल को नए दर्द से दो-चार किया
किसी के पाँव की आहट का इंतिज़ार किया

इसी उदास खंडर के उदास टीले पर
ये नहर जिस में कभी लहर भी उठी होगी
जो आज दीदा-ए-बे-आब-ओ-नूर2 है गोया
जिसे हुबाब3 के रंगीन क़ुमक़ुमे न मिले
बजाए मौज जहाँ साँप रक़्स करते थे
यहीं निगाह-ए-तमन्ना को अश्क-बार4 किया
किसी के पाँव की आहट का इंतिज़ार किया

इसी उदास खंडर के उदास टीले पर
मुहीब-ए-ग़ार5 के कोने पे ये झुका सा दरख़्त
फ़ज़ा में लटकी हुई खोखली जड़ें जिस की
ये टहनियाँ जो हवाओं में थरथराती हैं
बता रही हैं कि माज़ी की यादगार हैं हम
उन्हीं की छाँव में शाम-ए-जुनूँ से प्यार किया
किसी के पाँव की आहट का इंतिज़ार किया

इसी उदास खंडर के उदास टीले पर..

■■■

चित्र श्रेय: Enrico Carcasci

1- टूटी हुई; 2- नम आँखें/प्रकाश; 3- पानी का बुलबुला; 4- रोने वाला; 5- भयभीत गुफा


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘लड़की’ (क़ंदील बलोच के नाम) – सोफ़िया नाज़

नज़्म: ‘लड़की’ – सोफ़िया नाज़ (क़ंदील बलोच के नाम) पतले नंगे तार से लटकी जलती, बुझती, बटती वो लड़की जो तुम्हारी धमकी से नहीं डरती वो लड़की जिसकी मांग टेढ़ी है अंधी तन्क़ीद की कंघी से Read more…

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘क्या करूँ’ – यासमीन हमीद

‘क्या करूँ’ – यासमीन हमीद क्या करूँ मैं आसमां को अपनी मुट्ठी में पकड़ लूँ या समुन्दर पर चलूँ पेड़ के पत्ते गिनूँ या टहनियों में जज़्ब होते ओस के क़तरे चुनूं डूबते सूरज को उंगली Read more…

नज़्में | Nazmein

नज़्म: ‘ओ देस से आने वाले बता’ – अख़्तर शीरानी

‘ओ देस से आने वाले बता’ – अख़्तर शीरानी ओ देस से आने वाले बता किस हाल में हैं यारान-ए-वतन आवारा-ए-ग़ुर्बत को भी सुना किस रंग में है कनआन-ए-वतन वो बाग़-ए-वतन फ़िरदौस-ए-वतन वो सर्व-ए-वतन रैहान-ए-वतन Read more…

error:
%d bloggers like this: