कितनी मूंग दलेगें आखिर, हम इस धरा की छाती पर?

‘कितनी मूंग दलेगें आखिर?’ – विजय ‘गुंजन’

कितनी मूंग दलेगें आखिर,
हम इस धरा की छाती पर?
अनियंत्रित आबादी के पांव तले
वसुंधरा की छाती पर

जंगलों में है पसरा मातम,
देख विटपों की लाशों को
कौन संभालेगा आकर अब
उखड़ती जीव जंतु की साँसों को
स्वार्थ ने इंसानों के,
जलायी चिता हरियाली की
ओजोन परत में करके छेद,
बिगाड़ी सूरत सूरज की लाली की
चल रहे सब लोग यहाँ अब
भोग विलास की परिपाटी पर,
कितनी मूंग दलेगें आखिर,
हम इस धरा की छाती पर?

प्यास से व्याकुल सरिताओं का
नीर हो चुका काला है
सरीसृपों के आंगन में भी
अब आता नहीं उजाला है
तालाबों के ह्रदय में चुभते
अनगिनत प्रदूषणों के शूल
सावन में भी है तपती भूमि
बादल रस्ता अब जाते भूल
पंक्षियों के कलरव का स्वर
सुर से होकर टूटा है
बस्तियां बसाने के खातिर
हर उपवन को लूटा है
दाग गहरे लगा दिए सबने
अपनी वन सम्पदा की थाती पर
कितनी मूंग दलेगें आखिर,
हम इस धरा की छाती पर?

सजा भी देगी यह जननी
मत भूलो ए मतलबी इंसान
भूकंप, बाढ़, सुनामी जैसे
हैं कठोर उसके दंड विधान
आसुओं के समंदर में
अब जगत को डूबना ही होगा
कुदरत के कहर से
पल दर पल जूझना ही होगा
प्रलय का यह मंजर कोई,
सपना नहीं हकीकत है
गिरगिटी दुनिया की अभी
नहीं बदलने वाली नीयत है
जाएगा लेट मृत्यु लोक का शव
तब जीवन की एक खाटी पर
कितनी मूंग दलेगें आखिर,
हम इस धरा की छाती पर?

■■■

चित्र श्रेय: Thomas Lambert

Random Posts:

Recent Posts

रुत

रुत

दिल का सामान उठाओ जान को नीलाम करो और चलो दर्द का चाँद सर-ए-शाम निकल आएगा क्या मुदावा है चलो…

Read more
आदत

आदत

कविता संग्रह 'लौटा है विजेता' से मरदों ने घर को लौटने का पर्याय बना लिया और लौटने को मर जाने…

Read more
नतीजा

नतीजा

पुरबी दी के सामने उद्विग्‍न भाव से रूमा ने 'होम' की बच्चियों की छमाही परीक्षा के कार्ड सरका दिए। नतीजे…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: