‘क्या कहें उनसे बुतों में हमने क्या देखा नहीं’ – बहादुर शाह ज़फ़र

क्या कहें उनसे बुतों में हमने क्या देखा नहीं
जो यह कहते हैं सुना है, पर ख़ुदा देखा नहीं

ख़ौफ़ है रोज़े-क़यामत का तुझे इस वास्ते
तूने ऐ ज़ाहिद!1 कभी दिन हिज्र का देखा नहीं

तू जो करता है मलामत2 देखकर मेरा ये हाल
क्या करूँ मैं तूने उसको नासिहा3 देखा नहीं

हम नहीं वाक़िफ़ कहाँ मसज़िद किधर है बुतकदा4
हमने इस घर के सिवा घर दूसरा देखा नहीं

चश्मपोशी5 दीदा-ओ-दानिस्ता6 की है ऐ ज़फ़र
वरना उसने अपने दर पर तुमको क्या देखा नहीं..

■■■

1- धर्म परायण व्यक्ति; 2- धिक्कार; 3- उपदेशक; 4- मन्दिर; 5- आँख बचाना; 6- जान बूझ कर


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: ‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो

‘ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल’ – अमीर ख़ुसरो ज़े-हाल-ए-मिस्कीं मकुन तग़ाफ़ुल दुराय नैनाँ बनाए बतियाँ कि ताब-ए-हिज्राँ नदारम ऐ जाँ न लेहू काहे लगाए छतियाँ शाबान-ए-हिज्राँ दराज़ चूँ ज़ुल्फ़ ओ रोज़-ए-वसलत चूँ उम्र-ए-कोताह सखी पिया को जो Read more…

ग़ज़ल | Ghazal

ग़ज़ल: सूफ़ियों में हूँ न रिन्‍दों में, न मयख़्वारों में हूँ – बहादुर शाह ज़फ़र

सूफ़ियों में हूँ न रिन्‍दों में, न मयख़्वारों में हूँ सूफ़ियों में हूँ न रिन्‍दों में, न मयख़्वारों में हूँ, ऐ बुतो, बन्‍दा ख़ुदा का हूँ, गुनहगारों में हूँ! मेरी मिल्‍लत है मुहब्‍बत, मेरा मज़हब Read more…

ग़ज़ल | Ghazal

इन्‍क़िलाब आया, नई दुन्‍या, नया हंगामा है

इन्‍क़िलाब आया, नई दुन्‍या, नया हंगामा है इन्‍क़िलाब आया, नई दुन्‍या, नया हंगामा है शाहनामा हो चुका, अब दौरे गांधीनामा है। दीद के क़ाबिल अब उस उल्‍लू का फ़ख्रो नाज़ है जिस से मग़रिब ने Read more…

error:
%d bloggers like this: