“चार महीने जिम जाकर ये अदरक जैसी बॉडी बनायी तुमने?”

“तुम चाय जैसी क्यों होती जा रही हो?”

“चाय जैसी? मतलब? देखो  रेसिस्ट कॉमेंट किया तो अभी ब्रेक-अप हो जाएगा”

“अरे बाबा! मतलब हर वक़्त तुम्हारी तलब लगी रहती है”

“और, सर्दियों में अदरक बिना चाय अच्छी भी तो नहीं लगती..”


Shiva

अपने बारे में बताने को कुछ आकर्षक सा हो, इसका तो अभी इंतज़ार ही है। एक परंपरागत भारतीय लड़की की छवि से ज़्यादा दूर नहीं हूँ। समाज की अनेक बातों से बेचैन, खुद को लेकर बहुत असुरक्षित, दिन में सपने देखती और रात में घर की छत को तकती रहती एक आम लड़की। हर तरह की किताबों से बहुत प्यार करती हूँ, तरह तरह से उन्हें अलमारी में सजाया करती हूँ, और एक 'विश' माँगने को बोला जाए तो यही चाहूँगी की हज़ारों किताबों का निचोड़ दिमाग़ में समा जाए। अपनी असुरक्षाओं से लड़ने के लिए कुछ कुछ लिख लेती हूँ, और लोगों की सच्ची-झूठी तारीफों में सुकून पा लेती हूँ। लिखने- पढ़ने के अलावा संगीत एक और ऐसी चीज़ है जो मैं कस के अपने पास रखे रहना चाहती हूँ।

2 Comments

  • Shilpa · September 19, 2017 at 2:08 pm

    Brilliant thoughts

      Shiva · September 19, 2017 at 10:54 pm

      Shukriya Shilpa 🙂 Keep reading!

  • Leave a Reply

    Related Posts

    नव-लेखन | New Writing

    कविता: ‘झेलम’ – आशीष मनचंदा

    प्रेम, भरोसा, समर्पण.. ये सारे शब्द एक ऐसी गुत्थी में उलझे रहते हैं कि किसी एक की डोर खिंचे तो तनाव दूसरों में भी पैदा होता है। बिना प्रेम भरोसा नहीं, बिना भरोसे समर्पण नहीं। Read more…

    नव-लेखन | New Writing

    बनारस का कोई मजाकिया ब्राह्मण लगता हूँ – आदर्श भूषण

    आज कुछ सत्य कहता हूँ, ईर्ष्या होती है थोड़ी बहुत, थोड़ी नहीं, बहुत। लोग मित्रों के साथ, झुंडों में या युगल, चित्रों से, मुखपत्र सजा रहें हैं.. ऐसा मेरा कोई मित्र नहीं। कुछ महिला मित्रों Read more…

    नव-लेखन | New Writing

    ‘आजा फटाफट, चिल मारेंगे’ – प्रद्युम्न आर. चौरे

    “रात सोने के लिए है।” यह एक जुमला है और यही सच भी क्योंकि मुद्दतों से फ़र्द इस जुमले की ताईद करते आए हैं। यह जुमला या यूँ कहूं कि नियम इंसान ने ही गढ़ा होगा Read more…

    error:
    %d bloggers like this: