चित्रलेखा

"मैंने एक अनुभव किया है- जब भी मैं अलगाव की कोई भी बात पढ़ती हूँ तो उद्विग्न हो जाती हूँ।…

चाय-अदरक

"चार महीने जिम जाकर ये अदरक जैसी बॉडी बनायी तुमने?" "तुम चाय जैसी क्यों होती जा रही हो?" "चाय जैसी? मतलब? देखो…

मन की बात

"सुनो।" "हाँ।" "अगर मेरे लिए कोई मन्दिर बनाकर उसमें मेरी मूर्ति रखे, तो मुझे तो बहुत अच्छा लगे।" "पर ऐसे…

तुम मुबारक

"लगे इलज़ाम लाखो हैं कि घर से दूर निकला हूँ तुम्हारी ईद तुम समझो, मैं तो बदस्तूर निकला हूँ।" "तुम…

Close Menu
error: