‘माँ बनने का सुख’ – खलील जिब्रान

एक सीप ने पड़ोसी सीप से कहा, “मुझे बड़ा तेज दर्द महसूस हो रहा है। कोई भारी और गोल चीज़ है। मेरा दम निकला जा रहा है।”

दूसरी सीप ने अभिमानपूर्वक कहा, “ईश्वर को और सागर को लाख-लाख धन्यवाद। मुझे किसी प्रकार का दर्द नहीं है। मैं बाहर और भीतर दोनों ओर से ठीक-ठाक हूँ।”

उसी समय एक केकड़ा वहाँ से गुजर रहा था। उसने उन दोनों की बातचीत सुनी। उसने बाहर-भीतर से स्वस्थ सीप से कहा, “बेशक, तुम पूरी तरह ठीक हो। लेकिन जिस दर्द को तुम्हारी पड़ोसिन झेल रही है, वह अत्यन्त सुन्दर एक मोती है।”

■■■

चित्र श्रेय: Liane Metzler


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कहानी | Story

कहानी: ‘आदमी और कुत्ता’ – वनमाली

‘आदमी और कुत्ता’ – वनमाली मैं आपके सामने अपने एक रेल के सफर का बयान पेश कर रहा हूँ। यह बयान इसीलिए है कि सफर में मेरे साथ जो घटना घटी उसका कभी आप अपने Read more…

कहानी | Story

कहानी: ‘कानों में कँगना’ – राजा राधिकारमण प्रसाद सिंह 

‘कानों में कँगना’ – राजा राधिकारमण प्रसाद सिंह  “किरन! तुम्हारे कानों में क्या है?” उसने कानों से चंचल लट को हटाकर कहा – “कँगना।” “अरे! कानों में कँगना?” सचमुच दो कंगन कानों को घेरकर बैठे थे। Read more…

कहानी | Story

कहानी: ‘मौसी’ – भुवेनश्वर

‘मौसी’ – भुवेनश्वर मानव-जीवन के विकास में एक स्थल ऐसा आता है, जब वह परिवर्तन पर भी विजय पा लेता है। जब हमारे जीवन का उत्थान या पतन, न हमारे लिए कुछ विशेषता रखता है, Read more…

error:
%d bloggers like this: