मुबारक हो

लाड प्यार के
बालपन में पलकर
सदी जवाँ हो चली है

भटकाव का
किशोर वय समाप्त हुआ
सपनों के सुनहरे साल
अब सच होंगे

फ़रेब से गुरेज़ सीखकर
अब न भटकेगी तरुणाई
अब न बँटेंगे भाई भाई
माटी का मान बढ़ेगा
जो ठहर गया दौड़ेगा

मुबारक दीवाली होगी
शुभदायक ईद मनेगी
वो ईसा की अरदास करेगा
हम गुरुग्रंथों में मसीह पा लेंगे

〽️
© मनोज मीक