नादान प्रेमिका से

तुमको अपनी नादानी पर
जीवन भर पछताना होगा!

मैं तो मन को समझा लूँगा
यह सोच कि पूजा था पत्थर
पर तुम अपने रूठे मन को
बोलो तो, क्या उत्तर दोगी?
नत शिर चुप रह जाना होगा!
जीवन भर पछताना होगा!

मुझको जीवन के शत संघर्षों में
रत रह कर लड़ना है
तुमको भविष्य की क्या चिन्ता,
केवल अतीत ही पढ़ना है!
बीता दुख दोहराना होगा!
जीवन भर पछताना होगा!