antim_satren

विवरण: कथाकार मोहन राकेश के साथ बिताए अपने समय को लेकर अनीता राकेश के संस्मरणों की दो पुस्तकें हिन्दी पाठकों की प्रिय पुस्तकों में पहले से शामिल हैं—’चन्द सतरें और’ तथा ‘सतरें और सतरें’। उसी शृंखला में यह उनकी अगली पुस्तक है जिसे उन्होंने ‘अन्तिम सतरें’ नाम दिया है। इस पुस्तक में उन्होंने जितना अपने बीते समय का अवलोकन किया है उतने ही चित्र अपने वर्तमान से भी प्रस्तुत किए हैं। बीते दिनों की यादों में जहाँ राकेश के साथ हुई कुछ झड़पें उन्हें याद आती हैं, वहीं राकेश की माताजी के साथ गुजरे अपने सबसे पूर्ण, सबसे आर्द्र क्षणों को भी वे याद करती हैं। बहैसियत लेखक राकेश जब अपने पति और पिता रूप के साथ लगभग नाइंसाफी पर उतर आते तब उन्हें अपने सिर पर अम्मा का ही साया मिलता, राकेश जब अपने कमरे का दरवाजा बन्द कर इंसानी रिश्तों की पेचीदगियों को सुलझाने की लेखकीय कोशिशें कर रहे होते, अनीता जी अम्मा के स्नेह के उसी साये तले रहतीं, खातीं-पीतीं, सोतीं, बीमार होतीं और फिर ठीक होतीं। इस समय वे अपने एक बेटे के साथ दिल्ली में रहती हैं। इस पुस्तक में राकेश और अम्मा के अलावा सबसे ज्यादा जगह उसी को मिली है। यह पुस्तक राकेश के व्यक्तित्व के कुछ पहलुओं से हमें परिचित कराती है लेकिन उससे ज्यादा इस समय में जबकि साहित्य और पुस्तकों का बाजार बाकी बाजारों से मुकाबला करने के लिए तरह-तरह की मुद्राओं से लगभग खिजा रहा है, लेखकों और लेखकों के आश्रितों की स्थिति पर हमें सोचने पर विवश करती है।

  • Pages: 148
  • Year: 2018, 1st Ed.
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Radhakrishna Prakashan
  • ISBN 13: 9788183618724

इस किताब को खरीदने के लिए ‘अन्तिम सतरें’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

antim_satren


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

1 Comment

  • UI UX Design Training · January 5, 2018 at 4:48 pm

    Very informative, keep posting such sensible articles, it extremely helps to grasp regarding things.

  • Leave a Reply

    Related Posts

    नयी किताबें | New Books

    नयी किताब: सुकृता कृत ‘समय की कसक’

    विवरण: “सुकृता की कविताओं में संवेदना का घनत्व हमेशा आकर्षित करता है। देश-देशान्तर में घूमते हुए कई चीज़ें उनका ध्यान खींच लेती हैं। चाहे वह पगोडा के मन्दिर हों, हनोई के मिथक, एलोरा की गुफ़ाएँ या Read more…

    नयी किताबें | New Books

    नयी किताब: डॉ. बीना श्रीवास्तव कृत ‘सतरंगी यादें: यात्रा में यात्रा’

    विवरण: एक तरह का उद्वेलन। बिना कहे रह न पाने की मजबूरी। जैसा कि अक्सर यात्राओं में होता है। राह में कहीं फूल मिले तो कहीं काँटे। कहीं चट्टानें अवरोधक बनीं तो कहीं शीतल बयार ने Read more…

    नयी किताबें | New Books

    नयी किताब: शशिभूषण द्विवेदी कृत ‘कहीं कुछ नहीं’

    विवरण: खामोशी और कोलाहल के बीच की किसी जगह पर वह कहीं खड़ा है। और इस खेल का मजा ले रहा है। क्या सचमुच खामोशी और कोलाहल के बीच कोई स्पेस था, जहां वह खड़ा था।’उपर्युक्त Read more…

    error:
    %d bloggers like this: