nayi kitaab - Anubhav Ka Munh Peechhe Hai

विवरण: कल्पना की उड़ान की जगह अनुभव की आसक्ति अधिक त्वरा के साथ पैर जमाती जा रही है। संवेदना के स्थान पर जीवन में विवेक और बुद्धि का अधिक प्रयोग हो रहा है। विचार खुलकर सामने आ रहे हैं और इसलिए संघर्ष तेज़ होता जा रहा है, जो सामाजिक न्याय की सीमा लाँघकर वैयक्तिक न्याय तक पहुँचना चाहता है। हम सब यही चाहते भी हैं कि हमारे साथ ‘न्याय’ हो, इस न्याय की कई परिभाषाएँ देश और काल पर आधारित हो सकती हैं। इस संकलन की अधिकांश कविताओं की भावभूमि भी दार्शनिकता की है।

  • Format: Hardcover
  • Publisher: Vani Prakashan (2018)
  • ISBN-10: 9387648362
  • ISBN-13: 978-9387648364

इस किताब को खरीदने के लिए ‘अनुभव का मुँह पीछे है’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - Anubhav Ka Munh Peechhe Hai


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: ‘जगदीश पीयूष कृत ‘किस्से अवध के’

विवरण: अवध के किस्सों में लम्बी यात्राएँ हैं। ए भगवान् राम के साथ वन-वन घूमे हैं, तो प्रवासी भारतियों के साथ मारीशस, फिजी, गयाना आदि सुदूर देशों तक जाकर आज भी वहां सुने-कहे जा रहे हैं। Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: निर्मल वर्मा कृत ‘वे दिन’

विवरण: निर्मल वर्मा (1929-2005) भारतीय मनीषा की उस उज्ज्वल परम्परा के प्रतीक-पुरुष हैं, जिनके जीवन में कर्म, चिन्तन और आस्था के बीच कोई फाँक नहीं रह जाती। कला का मर्म जीवन का सत्य बन जाता है Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: गिरिराज किशोर कृत ‘आंजनेय जयते’

विवरण: ‘आंजनेय जयते’ गिरिराज किशोर का सम्भवत: पहला मिथकीय उपन्यास है। इसकी कथा संकटमोचन हनुमान के जीवन-संघर्ष पर केन्द्रित है। रामकथा में हनुमान की उपस्थिति विलक्षण है। वे वनवासी हैं, वानरवंशी हैं, लेकिन वानर नहीं हैं। Read more…

error:
%d bloggers like this: