nayi kitaab barking dog and paying guest

विवरण: रंगकर्मी विशाल विजय के दो हिन्दी विसंगति नाटक ‘बार्किंग डॉग & पेइंग गेस्ट’।

महानगर में एक शान्त बगीचा और उसमें एकान्त खोजता पीटर, लेकिन पीटर कहाँ जानता था कि अपनी तमाम प्रश्नोत्तरी लिए उत्कर्ष वहीं आ जायेगा। उत्कर्ष का वाचिक अतिक्रमण पीटर को बार-बार अपने गृहकलेश की स्मृति में ले जाता है। यह संवाद दोनों की प्रतिष्ठा का सबब बन जाता है और नाटक को एक अप्रत्याशित अंजाम देता है।

तलाक़शुदा शोभना अपने फ्लैट में अकेली रहती है। वर्षा बतौर पेइंग गेस्ट शोभना के यहाँ रहती है। दोनों में घनिष्ठता हो जाती है। शोभना से प्रभावित वर्षा शोभना के पूर्व पति अंकुश से पूर्वाग्रहित है और यही पूर्वाग्रह अंकुश से पहली ही मुलाक़ात में सम्मोहन में बदल जाता है। पेइंग गेस्ट ऐसी ही खिन्नता, अवसरवाद और सम्बन्धों के बिखराव को दर्शाता है।

Publisher: Vani Prakashan
Format: Paper Back
ISBN: 978-93-874099-0-3
Author: Vishal Vijay
Pages: 92

 

नोट: जानकारी वाणी प्रकाशन की वेबसाइट से साभार।


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: उदय प्रकाश कृत ‘मैंगोसिल’

विवरण: उदय प्रकाश की कहानियों का संसार व्यापक है, जहाँ वह नयी सोच के साथ कहानियों की रचना कर नये कीर्तिमान स्थापित करते हैं। इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं कि कहानियाँ समाज को जागरूक करने और कोई Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: ‘एक दो तीन’; सम्पादन: पल्लव

विवरण: हिन्दी साहित्य के सागर में से गागर भरते हुए पहली बार ऐसी कहानियाँ एक जिल्द में संकलित हैं जिनके शीर्षक में आया गिनती का अंक न केवल उत्सुकता जगाता है बल्कि हिन्दी कहानी की व्यापकता Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: गौरव सोलंकी कृत ‘ग्यारहवीं ए के लड़के’

विवरण: गौरव सोलंकी नैतिकता के रूढ़ खाँचों में अपनी गाड़ी खींचते-धकेलते लहूलुहान समाज को बहुत अलग ढंग से विचलित करते हैं। और, यह करते हुए उसी समाज में अपने और अपने हमउम्र युवाओं के होने के Read more…

error:
%d bloggers like this: