nayi kitaab - beech bahas mein - nirmal verma

विवरण: बीच बहस में एक मौत हुई थी। लगा था कि दिवंगत के साथ ही उसके साथ होने वाली बहस भी समाप्त हो गयी। पर बहस समाप्त हुई नहीं। हो भी कैसे? बहस केवल उससे तो थी नहीं, जो चला गया। वह तो अपने आप से है, उनसे है जो बच रहे हैं। और जो मौत भी हुई है, वह कोई टोटल, सम्पूर्ण मौत तो है नहीं। क्यों कोई मौत टोटल होती है?

  • Hardcover: 128 pages
  • Publisher: Vani Prakashan (2017)
  • Language: Hindi
  • ISBN-10: 9387155668
  • ISBN-13: 978-9387155664

इस किताब को खरीदने के लिए ‘बीच बहस में’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - beech bahas mein - nirmal verma