nayi kitaab chautha dhandha

विवरण: मीडिया, जिसे लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ कहा जाता है, एक धंधे में बदल चुका है- ‘चौथा धंधा’। धंधा शब्द देह व्यापार के लिए भी प्रयोग में आता है।

अलीशा, नगर के रेड लाइट एरिया की एक सेक्स वर्कर जब पत्रकार शैलेश से कहती है- “तुम हमसे भी बड़े धोखेबाज़ हो!” और जब पत्रकार अपनी दुनिया के सारे रूप बाहर लाने का फैसला करता है तो किस्सों की एक शृंखला बन जाती है, और वे किस्से केवल मीडिया की गंदगी को ही उजागर नहीं करते, बल्कि लोकतंत्र के बाकी तीन स्तंभों – व्यवस्था, प्रबंध, और कानून – की गंदगी भी दिखाते हैं।

  • Paperback: 184 pages
  • Publisher: Notion Press; 1 edition (2018)
  • Language: Hindi
  • ISBN-10: 1642496693
  • ISBN-13: 978-1642496697

इस किताब को खरीदने के लिए ‘चौथा धंधा – किस्से जर्नलिज़्म के’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab chautha dhandha

 


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: सुकृता कृत ‘समय की कसक’

विवरण: “सुकृता की कविताओं में संवेदना का घनत्व हमेशा आकर्षित करता है। देश-देशान्तर में घूमते हुए कई चीज़ें उनका ध्यान खींच लेती हैं। चाहे वह पगोडा के मन्दिर हों, हनोई के मिथक, एलोरा की गुफ़ाएँ या Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: डॉ. बीना श्रीवास्तव कृत ‘सतरंगी यादें: यात्रा में यात्रा’

विवरण: एक तरह का उद्वेलन। बिना कहे रह न पाने की मजबूरी। जैसा कि अक्सर यात्राओं में होता है। राह में कहीं फूल मिले तो कहीं काँटे। कहीं चट्टानें अवरोधक बनीं तो कहीं शीतल बयार ने Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: शशिभूषण द्विवेदी कृत ‘कहीं कुछ नहीं’

विवरण: खामोशी और कोलाहल के बीच की किसी जगह पर वह कहीं खड़ा है। और इस खेल का मजा ले रहा है। क्या सचमुच खामोशी और कोलाहल के बीच कोई स्पेस था, जहां वह खड़ा था।’उपर्युक्त Read more…

error:
%d bloggers like this: