nayi kitaab ek do teen

विवरण: हिन्दी साहित्य के सागर में से गागर भरते हुए पहली बार ऐसी कहानियाँ एक जिल्द में संकलित हैं जिनके शीर्षक में आया गिनती का अंक न केवल उत्सुकता जगाता है बल्कि हिन्दी कहानी की व्यापकता और गहराई से भी पाठकों को जोड़ता है। प्रेमचन्द, फणीश्वरनाथ ‘रेणु’, हरिशंकर परसाई, रवीन्द्र कालिया से लेकर स्वयंप्रकाश और असग़र वजाहत-सभी दिग्गज कहानीकारों की कहानियाँ इसमें सम्मिलित हैं। इन कहानियों की एक और विशेषता यह भी है कि इनमें कहानी विधा के सभी रस मिलते हैं। प्रेम, करुणा, रहस्य, रोमांच, हास्य, व्यंग्य और जीवन के उतार-चढ़ाव के चित्र इन कहानीकारों की कलम से निकलकर यादगार बन जाते हैं।

हिन्दी कहानी पर शोध कर चुके दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कॉलेज के प्राध्यापक डॉ पल्लव इस अनूठी पुस्तक के संपादक हैं। इस पुस्तक में गिनती कहानियों की है, कहानियों के मार्फ़त है।

  • Paperback: 144 pages
  • Publisher: Rajpal and Sons
  • Language: Hindi
  • ISBN-10: 9386534355
  • ISBN-13: 978-9386534354

Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: उदय प्रकाश कृत ‘मैंगोसिल’

विवरण: उदय प्रकाश की कहानियों का संसार व्यापक है, जहाँ वह नयी सोच के साथ कहानियों की रचना कर नये कीर्तिमान स्थापित करते हैं। इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं कि कहानियाँ समाज को जागरूक करने और कोई Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: गौरव सोलंकी कृत ‘ग्यारहवीं ए के लड़के’

विवरण: गौरव सोलंकी नैतिकता के रूढ़ खाँचों में अपनी गाड़ी खींचते-धकेलते लहूलुहान समाज को बहुत अलग ढंग से विचलित करते हैं। और, यह करते हुए उसी समाज में अपने और अपने हमउम्र युवाओं के होने के Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: अलका सरावगी कृत ‘एक सच्ची-झूठी गाथा’

विवरण: इक्कीसवीं सदी की यह गाथा एक स्त्री और एक पुरुष के बीच संवाद और आत्मालाप से बुनी गयी है। यहाँ सिर्फ़ सोच की उलझनें और उनकी टकराहट ही नहीं, आत्मीयता की आहट भी है। Read more…

error:
%d bloggers like this: