nayi kitaab gai jhulani toot

विवरण: उषाकिरण खान का यह नया उपन्यास गई झुलनी टूट उनकी प्रसिद्धि को एक कदम आगे लेकर जाता है। इसमें उन्होंने एक सीधा-सादा मगर मार्मिक सवाल उठाया है, ‘…जीवन केवल संग-साथ नहीं है। संग-साथ है तो वंचना क्यों है?’ इस रचना में उन्होंने सामान्य भारतीय परिवेश में एक स्त्री की जीवन-दशा का मार्मिक चित्रण किया है। वे अपने अनुभवों का इतना विस्तार करती हैं जैसे पूरा उपन्यास उनके आसपास जीवित किसी पात्र की दास्तान है। वे धरती की ध्वनियों को सुनती हैं और जीवन की जय-पराजय महसूस करती हैं।

  • Hardcover: 135 pages
  • Publisher: Kitabghar Prakashan; First Edition edition (2018)
  • Language: Hindi
  • ISBN-10: 8193615972
  • ISBN-13: 978-8193615973

इस किताब को खरीदने के लिए ‘गई झुलनी टूट’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab gai jhulani toot


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: निर्मल वर्मा कृत ‘वे दिन’

विवरण: निर्मल वर्मा (1929-2005) भारतीय मनीषा की उस उज्ज्वल परम्परा के प्रतीक-पुरुष हैं, जिनके जीवन में कर्म, चिन्तन और आस्था के बीच कोई फाँक नहीं रह जाती। कला का मर्म जीवन का सत्य बन जाता है Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: गिरिराज किशोर कृत ‘आंजनेय जयते’

विवरण: ‘आंजनेय जयते’ गिरिराज किशोर का सम्भवत: पहला मिथकीय उपन्यास है। इसकी कथा संकटमोचन हनुमान के जीवन-संघर्ष पर केन्द्रित है। रामकथा में हनुमान की उपस्थिति विलक्षण है। वे वनवासी हैं, वानरवंशी हैं, लेकिन वानर नहीं हैं। Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: शशिकांत मिश्र कृत ‘वैलेंटाइन बाबा’

विवरण: Non-Resident Bihari की सफलता के बाद एक और दिलकश पेशकश—बागी बलिया की मिटटी से उपजी एक मीठी-सी प्रेम कहानी! मोहब्बत के मुद्दे पर दो विचारधाराओं की टकराहट। एक धारा मोहब्बत के नाम पर मौज-मस्ती Read more…

error:
%d bloggers like this: