ishwar nahi neend chahiye_image

विवरण: अनुराधा सिंह ने अपने पहले ही संग्रह की इन कविताओं के मार्फत हिंदी कविता के समकालीन परिदृश्य में एक सार्थक हस्तक्षेप किया है। दीप्त जीवनानुभव, संश्लिष्ट संवेदना और अभिव्यक्ति की सघनता के स्तर पर इन कविताओं में बहुत कुछ ऐसा है जो उनकी एक सार्थक और मौलिक पहचान बनाने में सहायक है। हिंदी कविता में यह बहुत सारे संदर्भों के साथ रच बस कर अपने वजूद की समूची इंटेंसिटी के साथ एक लंबे अरसे बाद सामने आया है- क्या स्त्री मन की ऐसी कोई काव्य अभिव्यक्ति हमें इस समय कहीं और दिखाई देती है जो इस कदर सघन हो, इस कदर विह्वल, जिसमें रिफ्लेक्शन्स भी हों, अभीप्साएं भी, शिकायतें और ज़ख्म भी हों, कसक भी और संभलने की आत्म सजगता भी। इन कविताओं में महज़ स्त्री अस्मिता की ज़मीन या पितृ-सत्तात्मक समाज से संवाद के ही संदर्भ नहीं हैं, ये कविताएँ उससे अधिक इतिहास और जटिल समय की अन्तःवेदना और बेकली की कविताएं हैं। – विजय कुमार

  • Paperback: 120 pages
  • Publisher: Bharatiya Jnanpith (January 2018)
  • Language: Hindi
  • ISBN: 978-81-936555-3-5

 


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: उदय प्रकाश कृत ‘मैंगोसिल’

विवरण: उदय प्रकाश की कहानियों का संसार व्यापक है, जहाँ वह नयी सोच के साथ कहानियों की रचना कर नये कीर्तिमान स्थापित करते हैं। इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं कि कहानियाँ समाज को जागरूक करने और कोई Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: ‘एक दो तीन’; सम्पादन: पल्लव

विवरण: हिन्दी साहित्य के सागर में से गागर भरते हुए पहली बार ऐसी कहानियाँ एक जिल्द में संकलित हैं जिनके शीर्षक में आया गिनती का अंक न केवल उत्सुकता जगाता है बल्कि हिन्दी कहानी की व्यापकता Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: गौरव सोलंकी कृत ‘ग्यारहवीं ए के लड़के’

विवरण: गौरव सोलंकी नैतिकता के रूढ़ खाँचों में अपनी गाड़ी खींचते-धकेलते लहूलुहान समाज को बहुत अलग ढंग से विचलित करते हैं। और, यह करते हुए उसी समाज में अपने और अपने हमउम्र युवाओं के होने के Read more…

error:
%d bloggers like this: