प्रणय कुमार कृत ‘जंगल गाथा और कुछ प्रेम कविताएँ’

nayi kitaab - jangal gatha aur kuchh prem kavitaaein - pranay kumar

विवरण: प्रणय कुमार की कविताओं में अँधेरा है, चीख है, पुकार है, हाहाकार है और एक सन्नाटा है, किंतु यह अँधेरा मुक्तिबोध का नहीं है, न ही सन्नाटा नयी कविता वाला। इक्कीसवीं सदी का यह अँधेरा एकदम अलग है।

  • Format: Paperback
  • Publisher: Rashmi prakashan pvt. ltd. (2018)
  • ISBN-10: 9387773078
  • ISBN-13: 978-9387773073

इस किताब को खरीदने के लिए ‘जंगल गाथा और कुछ प्रेम कविताएँ’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - jangal gatha aur kuchh prem kavitaaein - pranay kumar

Random Posts:

Recent Posts

रुत

रुत

दिल का सामान उठाओ जान को नीलाम करो और चलो दर्द का चाँद सर-ए-शाम निकल आएगा क्या मुदावा है चलो…

Read more
आदत

आदत

कविता संग्रह 'लौटा है विजेता' से मरदों ने घर को लौटने का पर्याय बना लिया और लौटने को मर जाने…

Read more
नतीजा

नतीजा

पुरबी दी के सामने उद्विग्‍न भाव से रूमा ने 'होम' की बच्चियों की छमाही परीक्षा के कार्ड सरका दिए। नतीजे…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: