nayi kitaab - jungle mein pagal hathi aur dhol

विवरण: क्या आप नए कवि हैं और आप बड़ी साहित्यिक पत्रिकाओं में छपना चाहते हैं? आप अपनी कवितायें पत्रिकाओं में भेजते हैं और वहाँ से आपको कोई जवाब नहीं आता है? तो आपके लिए यह जानना जरूरी है कि आजकल बड़ी साहित्यिक पत्रिकाएँ क्या प्रकाशित कर रही है…. किस तरह की कविताएँ संपादकों के द्वारा पसंद की जा रही है? उन कविताओं का शिल्प और मिजाज क्या है? इसके लिए आपको पढ़ना चाहिए नीरज नीर कृत “जंगल में पागल हाथी और ढ़ोल” जो रश्मि प्रकाशन, लखनऊ के द्वारा प्रकाशित है एवं जिसकी अधिकांश रचनाएँ बड़ी पत्रिकों में प्रकाशित हुई है।

  • Format: Paperback
  • Publisher: Rashmi prakashan pvt. ltd. (2018)
  • ISBN-10: 8193557565
  • ISBN-13: 978-8193557563

इस किताब को खरीदने के लिए ‘जंगल में पागल हाथी और ढोल’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - jungle mein pagal hathi aur dhol

 


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: सुकृता कृत ‘समय की कसक’

विवरण: “सुकृता की कविताओं में संवेदना का घनत्व हमेशा आकर्षित करता है। देश-देशान्तर में घूमते हुए कई चीज़ें उनका ध्यान खींच लेती हैं। चाहे वह पगोडा के मन्दिर हों, हनोई के मिथक, एलोरा की गुफ़ाएँ या Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: डॉ. बीना श्रीवास्तव कृत ‘सतरंगी यादें: यात्रा में यात्रा’

विवरण: एक तरह का उद्वेलन। बिना कहे रह न पाने की मजबूरी। जैसा कि अक्सर यात्राओं में होता है। राह में कहीं फूल मिले तो कहीं काँटे। कहीं चट्टानें अवरोधक बनीं तो कहीं शीतल बयार ने Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: शशिभूषण द्विवेदी कृत ‘कहीं कुछ नहीं’

विवरण: खामोशी और कोलाहल के बीच की किसी जगह पर वह कहीं खड़ा है। और इस खेल का मजा ले रहा है। क्या सचमुच खामोशी और कोलाहल के बीच कोई स्पेस था, जहां वह खड़ा था।’उपर्युक्त Read more…

error:
%d bloggers like this: