nayi kitaab ravish kumar bolti aawaaz the free voice

विवरण: देवेश ‘अलख’ की कविताओं का संकलन अद्भुत दृश्यों का संग्रह है जिनमें विरल संवेदनशीलता एवं विविधता देखने को मिलती है। इनकी कविताओं में प्यार है कायनात से, इंसान से, इंसानी रिश्तों से, यदि एक शब्द में कहा जाये तो रूमानियत के कवि हैं ‘अलख’। इनकी कविताओं में हिन्दी के साथ-साथ उर्दू और अंग्रेज़ी शब्दों का समावेश भी है जो इनकी कविताओं को आम आदमी से जोड़ता है।

  • Format: Hard Bound
  • Publisher: Vani Prakashan (2018)
  • ISBN: 978-93-87648-88-3
  • Author: DEVESH ALAKH
  • Pages: 100

इस किताब को खरीदने के लिए ‘ख़्वाब अधखुली आँखों के’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab ravish kumar bolti aawaaz the free voice


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: सुकृता कृत ‘समय की कसक’

विवरण: “सुकृता की कविताओं में संवेदना का घनत्व हमेशा आकर्षित करता है। देश-देशान्तर में घूमते हुए कई चीज़ें उनका ध्यान खींच लेती हैं। चाहे वह पगोडा के मन्दिर हों, हनोई के मिथक, एलोरा की गुफ़ाएँ या Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: डॉ. बीना श्रीवास्तव कृत ‘सतरंगी यादें: यात्रा में यात्रा’

विवरण: एक तरह का उद्वेलन। बिना कहे रह न पाने की मजबूरी। जैसा कि अक्सर यात्राओं में होता है। राह में कहीं फूल मिले तो कहीं काँटे। कहीं चट्टानें अवरोधक बनीं तो कहीं शीतल बयार ने Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: शशिभूषण द्विवेदी कृत ‘कहीं कुछ नहीं’

विवरण: खामोशी और कोलाहल के बीच की किसी जगह पर वह कहीं खड़ा है। और इस खेल का मजा ले रहा है। क्या सचमुच खामोशी और कोलाहल के बीच कोई स्पेस था, जहां वह खड़ा था।’उपर्युक्त Read more…

error:
%d bloggers like this: