प्रदीप कुमार मिश्र कृत ‘मन मंज़र’

nayi kitaab - man manzar - pradeep kumar mishra

विवरण: बिहार के, एक शिक्षक परिवार में जन्मे श्री प्रदीप कुमार मिश्र की पारिवारिक पृष्ठभूमि शिक्षण परिवेश से जुड़ी है। महाविद्यालय से शिक्षा पूरी कर आप राजकीय सेवा में आये और वर्तमान में झारखण्ड सरकार के अधीन झारखण्ड सचिवालय सेवा के उप-सचिव के पद पर कार्यरत हैं। परिवार के परवरिश एवं परिवेश का ही असर है जिसने आपको धर्म से गहरे जोड़े रखा जिसकी अभिव्यक्ति आपकी कविताओं में स्पष्ट झलकती है। आपकी पुस्तक ‘मन मंजर’ की कविताओं से जुड़कर पाठकों को जीवन जीने की कला का भान होता है, जो उनकी जिजीविषा को बनाये रखती है; साथ ही जीवन के उत्तराद्र्ध का अनुभव भी आपकी कविताओं में देखने को मिलता है।

  • Hardcover: 92 pages
  • Publisher: Anjuman prakashan; First edition (2018)
  • Language: Hindi
  • ISBN-10: 9386027925
  • ISBN-13: 978-9386027924

इस किताब को खरीदने के लिए ‘मन मंज़र’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - man manzar - pradeep kumar mishra

Random Posts:

Recent Posts

रुत

रुत

दिल का सामान उठाओ जान को नीलाम करो और चलो दर्द का चाँद सर-ए-शाम निकल आएगा क्या मुदावा है चलो…

Read more
आदत

आदत

कविता संग्रह 'लौटा है विजेता' से मरदों ने घर को लौटने का पर्याय बना लिया और लौटने को मर जाने…

Read more
नतीजा

नतीजा

पुरबी दी के सामने उद्विग्‍न भाव से रूमा ने 'होम' की बच्चियों की छमाही परीक्षा के कार्ड सरका दिए। नतीजे…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: