nayi kitaab - meri drishti to meri hai - kusum ansal

विवरण: कथाकार कुसुम अंसल की अधिकतर कहानियाँ उच्चवर्गीय स्त्री की वेदना को व्यक्त करती हैं । इसके पूर्व हिंदी कथा-साहित्य में मध्यवर्गीय मानसिकता ही कथा के केन्द्र में रही हैं । उन्होंने उच्चवर्गीय स्त्री के-जो चेहरे चमकते, दमकते नजर आते हैं, लोग कहते हैं इन्हें क्या दुःख होगा, उनके तनाव, संघर्ष और निरतंर अकेले होते जाने की पीड़ा को पाठकों के साथ किया हैं । यहाँ संवेदनशील कथाकार वैभव के बीच रहकर भी अपने भीतर एक सांस्कृतिक अलगाव लगातार महसूस करती हैं । उच्च वर्ग में आने के लिए स्त्री किया-किया समझौते कर रही है जबकि उसमें प्रतिभा भी है-यह सब उनकी कहानियों में मिलता है । उनकी कहानियों में जीवन का वैविध्य और विस्तार और दर्शन की बृहत्त्रयी है । कुसुम अंसल की कहानियाँ बाहर से भीतर की ओर चलती हैं और उसकी परतों को व्यक्त करती हैं । यह एक तरह से भीतर की भाषा है- एक अदभुत सौन्दर्यत्मकतासे आपूरित । वे अपनी कहानियों में सारी अनकही बातें कहती हैं..

  • Format: Hardcover
  • Publisher: Vani Prakashan (2018)
  • ISBN-10: 9387889734
  • ISBN-13: 978-9387889736

इस किताब को खरीदने के लिए ‘मेरी दृष्टि तो मेरी है’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - meri drishti to meri hai - kusum ansal