सीत मिश्रा कृत ‘रूममेट्स’

 

nayi kitaab - roommates

विवरण: युवा लेखिका और पत्रकार सीत मिश्रा की पहली कृति है- रूममेट्स। पहला उपन्यास। कस्बे से निकली हुई लड़कियाँ छोटे शहरों से लिखते-पढ़ते और परिवार की वर्जनाओं और हिचक को झटकते हुए नोएडा पहुँचती हैं। पर नोएडा पहुँचकर उनका संघर्ष और तीखा हो जाता है। ये लड़कियाँ पढ़ी-लिखी हैं और परिवार में अमरबेल बनने की नियति से बगावत किया है इन्होंने मगर दिल्ली या कि नोएडा भी कम बेरहम नहीं है इन लड़कियों के साथ। ये आधुनिक लड़कियाँ हैं, पर आधुनिकता ही इनके लिए ऐसा जाल बुन देती है कि ग़ज़ब हो जाता है। मीडिया जो हर गलत बात के प्रतिरोध की ही एक आवाज़ है, पर खुद मीडिया के अंदर कितने चीखें घुटकर रह जाती हैं, उसको बेनकाब करती है यह कृति। टीवी चैनलों और दूसरे मीडिया हाउसों में भेड़िये बैठे हुए हैं। जैसे पत्रकारिता कोई जंगल हो। कहीं मालिक के रूप में , कहीं दूसरे बॉस के रूप में भेड़िये भेड़ की खाल ओढ़कर बैठे हैं। समझौते न करने वाली प्रतिभाएं किस तरह लहू-लुहान हो जाती हैं और समझौते करने वाली भी जबड़े में समा जाती हैं। यह हमारे देशकाल का ऐसा सच है, जिस पर सबसे कम बातें होती हैं। सीत ने साहस किया है। यह उपन्यास नयी लड़कियों के सामने खड़ी हो जाने वाली अफवाहों के अँधेरे को भी चीरता है।

  • Format: Paperback
  • Publisher: Rashmi prakashan pvt. ltd. (2018)
  • ISBN-10: 8193557557
  • ISBN-13: 978-8193557556
  • ASIN: B07DR8H3ZC

इस किताब को खरीदने के लिए ‘रूममेट्स’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab - roommates

 

Random Posts:

Recent Posts

नन्ही पुजारन

नन्ही पुजारन

'नन्ही पुजारन' - मजाज़ लखनवी इक नन्ही मुन्नी सी पुजारन पतली बाँहें पतली गर्दन भोर भए मंदिर आई है आई…

Read more
घाटे का सौदा

घाटे का सौदा

'घाटे का सौदा' - सआदत हसन मंटो दो दोस्तों ने मिलकर दस-बीस लड़कियों में से एक लड़की चुनी और बयालीस…

Read more
पेट की खातिर

पेट की खातिर

'पेट की खातिर' - विजय 'गुंजन' उन दोनों के चेहरों पर उदासी थी। आपस में दोनों बहुत ही धीमी आवाज…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: