sahela re_image

विवरण: भारतीय संगीत का एक दौर रहा है जब संगीत के प्रस्तोता नहीं, साधक हुआ करते थे ! वे अपने लिए गाते थे और सुननेवाले उनके स्वरों को प्रसाद कि तरह ग्रहण करते थे ! ऐसा नहीं कि आज के गायकों-कलाकारों की तरह वे सेलेब्रिटी नहीं थे, वे शायद उससे भी ज्यादा कुछ थे, लेकिन कुरुचि के आक्रमणों से वे इतनी दूर हुआ करते थे जैसे पापाचारी देहधारियों से दूर कहीं देवता रहें ! बाजार के इशारों पर न उनके अपने पैमाने झुकते थे, न उनकी वह स्वर-शुचिता जिसे वे अपने लिए तय करते थे ! उनका बाजार भी गलियों-कुचों में फैला आज-सा सीमाहीन बाजार नहीं था, वह सुरुचि का एक किला था जिसमे अच्छे कानवाले ही प्रवेश पा सकते थे ! मृणाल पाण्डे का यह उपन्यास टुकड़ों-दुकड़ों में उसी दुनिया का एक पूरा चित्र खींचता है ! केंद्र में है पहाड़ पर अंग्रेज बाप से जन्मी अंजलिबाई और उसकी माँ हीरा ! दोनों अपने वक्तों की बड़ी और मशहूर गानेवालियाँ ! न सिर्फ गानेवालियाँ बल्कि खूबसूरती और सभ्याचार में अपनी मिशाल आप ! पहाड़ की बेटी हीरा एक अंग्रेज अफसर एडवर्ड के. हिवेट की नजर को भायी तो उसने उस समय के अंग्रेज अफसरों कि अपनी ताकत का इस्तेमाल करते हुए उसे अपने घर बिठा लिया और एक बेटी को जन्म दिया, नाम रखा विक्टोरिया मसीह ! हिवेट की लाश एक दिन जंगलों में पाई गई और नाज-नखरों में पल रही विक्टोरिया अनाथ हो गई ! शरण मिली बनारस में जो संगीत का और संगीत के पारखियों का गढ़ था ! लेकिन यह कहानी उपन्यासकार को कहीं लिखी हुई नहीं मिली, बातें करके यहाँ-वहाँ बिखरी लिखित-मौखिक जानकारियों को इकटठा करके पूरा किया है ! इस तरह पत्र-शैली में लिखा गया यह उपन्यास कुछ-कुछ जासूसी उपन्यास जैसा सुख भी देता है ! मृणाल पाण्डे अंग्रेजी में भी लिखती हैं और हिंदी में भी ! इस उपन्यास में उन्होंने जिस गद्य को संभव किया है वह अनूठा है ! वह सिर्फ कहानी नहीं कहता, अपना पक्ष भी रखता चलता है और विपक्ष कि पहचान करके उसे धराशायी भी करता है ! इस कथा को पढ़कर संगीत के एक स्वर्ण-काल कि स्मृति उदास करती है और जहाँ खड़े होकर कथाकार यह कहैं बताती है, वहां से उस वक्त से कोफ़्त भी होती है जिसके चलते यह सब हुआ, या होता है !

    • Pages: 198
    • Year: 2017, 1st Ed.
    • Binding:  Hardbound
    • Language:  Hindi
    • Publisher:  Radhakrishna Prakashan
  • ISBN 13: 9788183618557

इस किताब को खरीदने के लिए ‘सहेला रे’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

sahela re_image


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: सुकृता कृत ‘समय की कसक’

विवरण: “सुकृता की कविताओं में संवेदना का घनत्व हमेशा आकर्षित करता है। देश-देशान्तर में घूमते हुए कई चीज़ें उनका ध्यान खींच लेती हैं। चाहे वह पगोडा के मन्दिर हों, हनोई के मिथक, एलोरा की गुफ़ाएँ या Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: डॉ. बीना श्रीवास्तव कृत ‘सतरंगी यादें: यात्रा में यात्रा’

विवरण: एक तरह का उद्वेलन। बिना कहे रह न पाने की मजबूरी। जैसा कि अक्सर यात्राओं में होता है। राह में कहीं फूल मिले तो कहीं काँटे। कहीं चट्टानें अवरोधक बनीं तो कहीं शीतल बयार ने Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: शशिभूषण द्विवेदी कृत ‘कहीं कुछ नहीं’

विवरण: खामोशी और कोलाहल के बीच की किसी जगह पर वह कहीं खड़ा है। और इस खेल का मजा ले रहा है। क्या सचमुच खामोशी और कोलाहल के बीच कोई स्पेस था, जहां वह खड़ा था।’उपर्युक्त Read more…

error:
%d bloggers like this: