सुकृता कृत ‘समय की कसक’

nayi kitaab samay ki kasak

विवरण: “सुकृता की कविताओं में संवेदना का घनत्व हमेशा आकर्षित करता है। देश-देशान्तर में घूमते हुए कई चीज़ें उनका ध्यान खींच लेती हैं। चाहे वह पगोडा के मन्दिर हों, हनोई के मिथक, एलोरा की गुफ़ाएँ या औरंगाबाद का शूलीभंजन मन्दिर। कवयित्री उन्हें ऐसे शब्द-बद्ध करती हैं कि चित्र खिंच जाते हैं, बिम्ब उभर आते हैं…सुकृता स्वयं चित्रकार भी हैं। चित्रों की ही तरह यहाँ भी कवयित्री की निगाह हर छोटी-बड़ी बारीकी पर जाती है। शब्दों और रंगों के अलग-अलग बिम्ब, उनकी रचनाधर्मिता को पूरा करते हैं।”

रचने की प्रक्रिया में
मैं, हरदम अपने से आगे ही रहती हूँ
पीछे मुड़कर देखने को कुछ भी नहीं
बाकी बचे वक़्त में
मैं, अपना ही पीछा करती हूँ
आगे देखने को कुछ भी नहीं
मुद्दा सिर्फ़
क़दमताल बनाये रखने का है…

  • Format: Paperback
  • Publisher: Vani Prakashan (2018)
  • ISBN-10: 9387648621
  • ISBN-13: 978-9387648623

*जानकारी साभार वाणी प्रकाशन

इस किताब को खरीदने के लिए ‘समय की कसक’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!

nayi kitaab samay ki kasak

Random Posts:

Recent Posts

रुत

रुत

दिल का सामान उठाओ जान को नीलाम करो और चलो दर्द का चाँद सर-ए-शाम निकल आएगा क्या मुदावा है चलो…

Read more
आदत

आदत

कविता संग्रह 'लौटा है विजेता' से मरदों ने घर को लौटने का पर्याय बना लिया और लौटने को मर जाने…

Read more
नतीजा

नतीजा

पुरबी दी के सामने उद्विग्‍न भाव से रूमा ने 'होम' की बच्चियों की छमाही परीक्षा के कार्ड सरका दिए। नतीजे…

Read more

Featured Posts

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

मैं पाँचवे का दोषी हूँ

'मैं पाँचवे का दोषी हूँ' - विशेष चन्द्र 'नमन' शाम के लिए पिघली है धूप लौटा है सूरज किसी गह्वर…

Read more
सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा ‘पा’किस्तान

सा रे गा मा 'पा'किस्तान - शिवा सामवेद से जन्मे सुरों को लौटा दो हिन्दुस्तान को और कह दो पाकिस्तान से…

Read more
प्यार मत करना

प्यार मत करना

'प्यार मत करना' - कुशाग्र अद्वैत जिस शहर में पुश्तैनी मकान हो बाप की दुकान हो गुज़रा हो बचपन हुए…

Read more

Leave a Reply

Close Menu
error: