विवरण: जहाँ से चले थे वहीं आ गये हम, चले उम्र भर फ़ासले हुए न कम-यही है समीर की पूरी यात्रा। एक गीतकार के आईने में अगर समीर को उतारा जाये तो उनकी तस्वीर पानी की साफ़ नज़र आती है। किसी ने सच कहा है, पानी रे पानी तेरा रंग कैसा जिसमें मिला दो लगे उस जैसा। कविता के सारे रंगों में समीर ने अपने आपको ढाला है, जो जिया है वही लिखा है, जो देखा है वही महसूस किया है, आसान शब्दों में बड़ी बात कहना आसान नहीं होता। उदाहरण के तौर पर, धूप और छाँव की लड़ाई है, ज़िन्दगी अब समझ में आयी है। समीर के अन्दर प्यार का एक जीता-जागता समन्दर है, दर्द का एक चलता-फिरता रेगिस्तान है, हौसलों का एक अनन्त आसमान है, और सपनों की एक जगमगाती दुनिया है, इन सबकी बेचैनी को लेके समीर का कवि-मन अपनी खोज में भटकता रहता है। समीर की कविताओं में शब्दों से ज़्यादा भावनाओं को अहमियत दी गयी है।

  • Paperback: 118 pages
  • Publisher: Vani Prakashan; First edition (2017)
  • ISBN-10: 9387330915
  • ISBN-13: 978-9387330917

इस किताब को खरीदने के लिए ‘समीराना गीत’ पर या नीचे दी गयी इमेज पर क्लिक करें!


Posham Pa

भाषाओं को भावनाओं को आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: प्रणय कुमार कृत ‘जंगल गाथा और कुछ प्रेम कविताएँ’

विवरण: प्रणय कुमार की कविताओं में अँधेरा है, चीख है, पुकार है, हाहाकार है और एक सन्नाटा है, किंतु यह अँधेरा मुक्तिबोध का नहीं है, न ही सन्नाटा नयी कविता वाला। इक्कीसवीं सदी का यह Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: निर्मल वर्मा कृत ‘कला का जोखिम’

विवरण: निर्मल वर्मा के निबन्ध-संग्रहों के सिलसिले में कला का जोखिम उनकी दूसरी पुस्तक है, जिसका पहला संस्करण लगभग बीस साल पहले आया था। स्वयं निर्मलजी इस पुस्तक को अपने पहले निबन्ध-संग्रह शब्द और स्मृति तथा Read more…

नयी किताबें | New Books

नयी किताब: सीत मिश्रा कृत ‘रूममेट्स’

  विवरण: युवा लेखिका और पत्रकार सीत मिश्रा की पहली कृति है- रूममेट्स। पहला उपन्यास। कस्बे से निकली हुई लड़कियाँ छोटे शहरों से लिखते-पढ़ते और परिवार की वर्जनाओं और हिचक को झटकते हुए नोएडा पहुँचती हैं। Read more…

error:
%d bloggers like this: