चलते चलते रुक जाओगे किसी दिन,
पथिक हो तुम,
थकना तुम्हारे न धर्म में है;
ना ही कर्म में,
उस दिन तिमिर जो अस्तित्व को,
अपनी परिमिति में घेरने लगेगा,
छटपटाने लगोगे,
खोजना चाहोगे,
लेकिन धुंध रास्ता नहीं देगी,
एक पग रखते गिरने लगो!
उस पल,
उस क्षण,
तुम्हारी बटोरी हुई उपमाएँ साहस भरेंगी,
और स्वाभिमान से लिपटा हुआ,
तुम्हारा प्रतिबिम्ब,
बिना किसी प्रकाश के
ध्वजवाहक बनेगा,
और गौरव गाथा लिखी जाएगी
तुम्हारे संघर्ष की,
घबराना मत,
अगर कोई पाठक न मिले!
क्योंकि,
अश्वमेध के अश्व के सामान,
दौड़ता तुम्हारा मन,
विजयी होगा,
जहाँ भी दौड़ेगा।
इस युद्ध के अकेले योद्धा तुम ही हो,
और तुम्हारा युद्ध भी तुमसे ही है,
विजयी होकर भी,
एक पक्ष हार जाएगा,
और;
तुम्हारे अंदर के वन का,
दावानल,
तुम्हें उस दशांश क्षण तक जलाएगा,
जब तक अपने पुनर्निर्माण की प्रक्रिया,
तुम पूरी न कर लो।

 

चित्र श्रेय: शरद महामना


Posham Pa

भाषाओं को
भावनाओं को
आपस में खेलना पोषम-पा चाहिए
खेलती हैं चिड़िया-उड़..।

Leave a Reply

Related Posts

कविता | Poetry

कविता: मैं समर अवशेष हूँ – पूजा शाह

‘कुरुक्षेत्र’ कविता और ‘अँधा युग’ व् ‘ताम्बे के कीड़े’ जैसे नाटक जिस बात को अलग-अलग शैलियों और शब्दों में दोहराते हैं, वहीं एक दोस्त की यह कविता भी उन लोगों का मुँह ताकती है जो Read more…

कविता | Poetry

कविता: ‘तमाशा’ – पुनीत कुसुम

उन्मादकता की शुरुआत हो जैसे जैसे खुलते और बंद दरवाज़ों में खुद को गले लगाना हो जैसे कोनों में दबा बैठा भय आकर तुम्हारे हौसलों का माथा चूम जाए जैसे वो सत्य जिसे झुठलाने की Read more…

कविता | Poetry

“शदायी केह्न्दे ने” – रमेश पठानिया की कविताएँ

आधुनिक युग का आदमियत पर जो सबसे बड़ा दुष्प्रभाव पड़ा है वो है इंसान से उसकी सहजता छीन लेना। थोपे हुए व्यवसाए हों या आगे बढ़ जाने की दौड़, हम जाने किन-किन माध्यमों का प्रयोग Read more…

%d bloggers like this: